Thursday, 19th January, 2017
चलते चलते

फ़ेसबुक पर मिले 10 लाख लाइक्स से महिला की जानलेवा बीमारी दूर

15, Jun 2016 By banneditqueen

कानपुर. आपको सुनकर शायद यक़ीन नहीं आयेगा कि फ़ेसबुक की वजह से ऐसी जानलेवा बीमारी भी दूर हो सकती है, जिसके सामने बड़े बड़े अस्पताल भी हार गये। लेकिन ये बिल्कुल सच है!

Doctor
फ़ेसबुक पर लाइक्स की दुआ मांगते डाॅक्टर सक्सेना

कानपुर के नेहरू नगर की शीला शर्मा पिछले कई सालों से जानलेवा बीमारी से पीड़ित थीं। अलग अलग अस्पतालों में लाखों रुपया खर्च करने के बाद भी उनकी हालत में कोई सुधार नहीं आया। तभी एक दिन उनके भाई सुबोध की नज़र एक फेसबुक पोस्ट पर पड़ी जिसमें लिखा था- ‘1 Like = 1 Prayer, आपके 1 लाख लाइक्स से ये बच्ची ठीक हो सकती है।’

सुबोध ने भी तुरंत अपनी बहन की फोटो फेसबुक पर डालकर नीचे लिख दिया- ‘1 Like = 1 Prayer’ कृपया इस फोटो को लाइक कर के मेरी बहन की जान बचाएं।’ देखते ही देखते तीन दिन के अंदर लाइक्स का आँकड़ा 10,00,000 के पार पहुंच गया। जैसे-जैसे लाइक्स की संख्या बढ़ती गयी, शीला जी की तबीयत सुधरती गयी।

यह देखकर डॉक्टर्स भी हैरान रह गये। उनका इलाज करने वाले डॉक्टर सार्थक सक्सेना ने फेकिंग न्यूज़ को बताया कि “इट्स मिरेकल…बिलीव मी! जिस बीमारी से शीला पीड़ित है, वो लाइलाज है। दुनिया के किसी भी हॉस्पिटल में इसका इलाज नहीं है।”

यह कहकर डॉ. सक्सेना ऐसे और केस देखने के लिये अपना फ़ेसबुक अकाउंट चेक करने लगे।

देखते ही देखते यह ख़बर पूरे फ़ेसबुक वर्ल्ड में जंगल की आग की तरह फैल गयी। लोग अब अपने बीमार घरवालों और रिश्तेदारों की फोटो फेसबुक पर डालकर ‘ब्लड’ की तरह ‘लाइक’ मांग रहे हैं। फ़ेसबुक ने भी इससे प्रेरित होकर ‘Like to save’ नाम से एक नया फीचर दे दिया है। इस फीचर की खासियत है कि यह बीमार व्यक्ति की फोटो अपलोड होते ही उसे अपने आप सभी फेसबुक यूजर्स की न्यूज़फीड में पहुंचा देता है।

मेडिकल साइंस के लिये यह खोज काफी मददगार साबित हो रही है। WHO की रिपोर्ट के अनुसार, अब तक 1,25,768 लोगों की जान इन लाइक्स के माध्यम से बचाई जा चुकी है। लेकिन इससे अस्पताल और डॉक्टर ख़ुश नहीं हैं क्योंकि उनकी कमाई रोज़-रोज़ कम होती जा रही है।



ऐसी अन्य ख़बरें