Thursday, 14th December, 2017

चलते चलते

यमराज ने धरती पे आने से किया इनकार, दिल्ली में ही खोली जायेगी नरक की ब्रांच

26, Nov 2017 By Velawrites

यमलोक/देवलोक. नरक में जगह भर जाने के कारण यमराज ने भगवान जी से नयी जगह अलॉट करने की डिमांड कर दी। यमराज की परेशानी को देखते हुए भगवान जी ने नरक के लिए लोकेशन हंटिंग पर नारद जी को भेज दिया और पृथ्वी पर दिल्ली समेत सभी जगहों पर जाने का सुझाव दिया।

smog-delhi-ncr2
नरक जैसी हो गयी है दिल्ली

नारद मुनि जब दिल्ली से लौटे तो ‘नारायण…नारायण’ का जाप नहीं कर रहे थे बल्कि N95 मास्क पहन कर लौटे और साथ ही लेकर लौटे नरक का विकल्प! वो बोले “भगवन् दिल्ली की स्थिति तो नरक से भी बदतर है। वहां धरती के वासी उसका कोई ख्याल ही नहीं रखते। किसान पैसे के अभाव में बची हुई फैसलें जला रहे हैं। छोटे लोग बड़ी गाड़ियों में अकेले चल रहे हैं। वहाँ तो साँस लेने के लिये सिर्फ़ फैक्टरियों का धुआँ ही उपलब्ध है।

“जिन नदियों को माँ बोलते हैं, उन्हीं को गंदा नाला बना डाला है। इससे ज्यादा तो यमराज जी नरक का ख्याल रखते हैं। हमारे पास जो बहुत ज्यादा बुरे लोग आएंगे, उन्हें अब हम दिल्ली भेज सकते हैं।” -नारद ने मास्क हटाते हुए कहा।

यह सुनकर प्रभु ने गहरी साँस ली और बोले, “इन लोगो को एक घर दिया था, पृथ्वी नाम इन्होंने रख लिया। हर किसी ने उसे ज़मीन के टुकड़ों में बाँट कर अपने-अपने देश बना लिए। अब उसी घर को इतना ख़राब कर लिया है कि इनमें से कोई भी स्वर्ग के सपने तो नहीं देख सकता। ये सभी नरक के ही हक़दार हैं। यमराज जी ने भी हमें पत्र लिखा है और दिल्ली जाने से साफ़ मना कर दिया है।”

“अब बेहतर है कि दिल्ली वाले ऊपर आने की बजाय वही भटकें। खुद का घर बचता नहीं, सुना है मुझे बचाना चाहते हैं। हवा ख़राब, पानी ख़राब जाने और क्या -क्या ख़राब करना चाहते है? ये और कुछ नहीं बस ख़ुद का ही सर्वनाश करना चाहते हैं!” -यह कहकर प्रभु ने दिल्ली वालों को मरने के बाद दिल्ली में ही छोड़ दिए जाने के फैसले पे मोहर लगा दी।



ऐसी अन्य ख़बरें