Thursday, 14th December, 2017

चलते चलते

महिला ने बनाया मेट्रो में दो लोगों के बीच बची कम से कम जगह में बैठ जाने का वर्ल्ड रिकॉर्ड

02, Dec 2017 By Komal Meena

दिल्ली. आज 32 वर्षीय रमा जैन के परिवार के लिए बहुत ख़ुशी का दिन है। रमा का नाम जल्द ही गिनीज़ बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकॉर्ड में एक अनोखा रिकॉर्ड स्थापित करने के लिए शामिल होने वाला है। रमा ने मेट्रो में बैठे दो लोगों के बीच बची कम से कम जगह में घुस कर बैठ जाने का रिकॉर्ड बनाया है। फ़ेकिंग न्यूज़ से बातचीत के दौरान रमा ने बताया कि इस रिकॉर्ड को बनाने के पीछे उनकी सालों की प्रैक्टिस छुपी है। इस अनोखे कौशल में महारत हासिल करने के लिए उन्होंने हर दिन अभ्यास किया है। दिल्ली के लक्ष्मी नगर में रहने वाली रमा, रोज़ अपने दफ़्तर जाने के लिए दिल्ली मेट्रो में सफ़र करती थीं। लक्ष्मी नगर मेट्रो स्टेशन से राजीव चौक मेट्रो स्टेशन के इस सफ़र में ही उन्होंने कड़ा अभ्यास किया और आज ये मुक़ाम हासिल किया।

बीच में घुसी रमा
बीच में घुसी रमा

रमा ने बताया कि वो मेट्रो के लेडीज़ कोच में सफ़र करती हैं। मेट्रो आने से ठीक पहले वो लाइन में लगी औरतों को अनदेखा करते हुए पीली रेखा के आगे जाकर खड़ी हो जाती थीं। मेट्रो में घुसते ही वो अपनी पैनी नज़र से स्कैन कर के अपने टारगेट को खोज लेती हैं। टारगेट, यानि दो लोगों के बीच बची ज़रा सी खाली जगह दिखते ही उनकी आंखों में एक ख़ास चमक आ जाती है। पूरी एकाग्रता से वो टारगेट की ओर बढ़ती हैं और कहती हैं “थोड़ा एडजस्ट कर लीजिये”। एडजस्ट करने की गुंजाइश न होने पर भी लोग कोशिश में ज़रा सा हिलते हैं और वो बिना वक़्त ज़ाया किये उनके बीच घुस कर बैठ जाती हैं। “थोड़ा एडजस्ट कर लीजिये” ये जादुई शब्द सुन कर ज़्यादातर लोग तो समर्पण कर देते थे, लेकिन कई बार उनकी राह में समस्याएं भी आयीं। परेशानी के एक समय को याद करते हुए उन्होंने बताया कि कई बार ऐसा भी होता था कि लोग कह देते “जगह नहीं है, कहां एडजस्ट कर लें?” लेकिन रमा ने कभी हार नहीं मानी, वो ऐसे लोगों का डट कर सामना करती थीं और कुछ और जादुई शब्द ऐसा कहने वालो पर फेंक देती थीं। ऐसा होने पर रमा कहती, “एडजस्ट नहीं कर सकते तो मेट्रो में क्यों आते हो”। इस तरह वो जगह न होने पर भी लोगों से खिसकने की एक्टिंग करवा लेतीं और उतनी ही जगह में फंस कर बैठ जातीं। आब वो इस काम में इतनी माहिर हो गयी हैं कि उन्हें इस प्रतिभा के लिए सम्मानित किया जा रहा है। उन्होंने हालही में दो लोगों के बीच बची एक सेंटीमीटर की जगह में फ़िट होकर बैठ जाने का विश्व रिकॉर्ड बनाया है। अब आलम ये है कि रमा को मेट्रो में घुसता देख ही कई लोग फंस जाने के डर से सीट छोड़ कर खड़े हो जाते हैं। हम रमा को इस उपलब्धि के लिए बहुत बधाई देते हैं। आज वो मेट्रो में सफ़र करने वाली अपनी जैसी हज़ारों महिलाओं के लिए मिसाल बन गयी हैं।



ऐसी अन्य ख़बरें