Friday, 24th November, 2017

चलते चलते

पड़ोसी की मिठाई उसी पड़ोसी को देते पकड़ी गई महिला,पूरे मोहल्ले में हुई बदनामी

20, Oct 2017 By Guest Patrakar

भोपाल. दिवाली का त्योहार भारत में किसी शादी से कम नहीं होता। किसी अन्य शादी की तरह इसमें भी लोग अपने गौरव का परिचय देते हुए ख़ूब पैसा ख़र्च करते है, घर पर लगी लड़ियों की लम्बाई आपकी जेब की गहराई बतलाती है। किसी भी अन्य शादी की तरह इस त्योहार में भी लोग फ़िज़ूल का ख़र्च करने से ख़ुद को रोक नहीं पाते। मगर कब यह त्योहारों का त्योहार बेज़्ज़ती में तब्दील हो जाएगा इसका अंदाज़ा शायद स्नेहा को कभी नहीं होगा।

kaju-katli-indian-sweetsअगर आपके 10-12 पड़ोसी हों तो दिवाली के बाद एक पड़ोसी की मिठाई दूसरे पड़ोसी को देना शतरंज के खेल की तरह दिमाग़ की कसरत करने पर मजबूर कर देता है। ग़लती होना स्वाभाविक हो जाता है, और वही हुआ स्नेहा के साथ।

किसी आम महिला की तरह भोपाल की रहने वाली स्नेहा चतुर्वेदी के लिए भी दिवाली का दिन थकान पूर्वक रहा। पूरे हफ़्ते दिवाली की सफ़ाई करने के बाद जब आख़िरकार पड़ोसियों को अपना चमचमाता घर दिखाने की बारी आयी तब उनके साथ कुछ ऐसा हुआ जो शायद कोई अपने दुश्मन के साथ होने की भी उम्मीद ना करे। ऐसा क्या हुआ, आइए सुनते है उनसे ही “जैसी ही शाम ढली और पड़ोसियों से मिठाई का लेन देन का समय शुरू हुआ, मैं हर बार की तरह इस बार भी तैयार थी, सबकी मिठाई घर आ चुकी थी। हर साल की तरह मैं इस बार भी किसी के लिए मिठाई नहीं लायी थी और हर बार की तरह जिन जिन के घर से मिठाई आयी मैं उन्ही के दब्बे फेर बदल कर उन्हें देने निकल पड़ी। मगर इस बार शायद मेरी गणित कमज़ोर पड़ गई थी। शायद इसीलिए मैंने मिसिस पार्वती मल्होत्रा जी के काजू कतली का डब्बा उन्हें ही वापिस कर दिया। जो कि उन्होंने आधे घंटे बाद घर आकर वापस करदी और साथ ही ख़ूब खरी खोटी भी सुनाई।”

फेकिंग न्यूज़ ने पार्वती मल्होत्रा से इस विषय में उनसे टिप्पणी ली, उन्होंने कहा “यह सच है कि स्नेहा ने दिवाली पर मुझे मेरा ही डब्बा वापस कर दिया, मैं भी ऐसा करती हूँ लेकिन पकड़ी नहीं जाती। स्नेहा को कुछ तो लिहाज़ रखना चाहिए था। हमें भी आगे डब्बा देने होते है। ऐसे कैसे काम चलेगा? कुछ तो ईमानदारी होनी चाहिए।

इन दो पड़ोसियों की लड़ाई से पूरा देश परेशान है, सबको डर है कि कहीं इस दुश्मनी को देखते हुए सुप्रीम कोर्ट कहीं दिवाली पर मिठाई भी बैन ना कर दे। बस इसीलिए सारा देश पार्वती जी को मनाने में लगा हुआ है।

अब पार्वती जी माने चाहे ना माने लेकिन स्नेहा जी की इमेज पर यह काजू कतली का दाग़ दुनिया के किसी भी वॉशिंग पाउडर से नहीं मिट पाएगा, हालाँकि अगर स्नेहा चाहे तो पार्वती जी को अपने नए मनीष मल्होत्रा डिज़ाइनर सूट दे कर उन्हें मना सकती है। लेकिन क्या स्नेहा इतना बड़ा बलिदान दे पाएँगी? देखने के लिए पढ़ते रहिए फेकिंग न्यूज़



ऐसी अन्य ख़बरें