Saturday, 18th November, 2017

चलते चलते

ठंड खत्म होने से युवक परेशान, कहा "अब नहीं मिल रहा ना नहाने का बहाना"

21, Feb 2017 By banneditqueen

दिल्ली. ठंड का मौसम मतलब दिन में बार बार चाय, सुबह बिस्तर से बाहर निकलने में आना कानी करना और नहाने की बजाय ढेर सारा पर्फ्यूम लगाना। पर जैसे जैसे मार्च का महीना करीब आ रहा है वैसे वैसे ठंड भी खत्म हो रही है। ऐसे में सबसे ज्यादा दुखी है लाजपत नगर में रहने वाले वरुन। वरुन को बचपन से नहाने में बड़ा आलस आता है था।

ढर सारा परफ्यूम छिड़कता वरुन
ढर सारा परफ्यूम छिड़कता वरुन

वरुन को नहाने से सख्त नफरत थी, गर्मी में तो मजबूरी नें नहाना पड़ता पर ठंड में तो उसकी मौज हो जाती। वरुन ठंड में हफ्ते में बस तीन दिन ही नहाता पर जैसे जैसे ठंड खत्म हो रही है उसकी परेशानी बढ़ती जा रही है।

वरुन ने फेकिंग न्यूज़ को जानकारी दी कि “अब यार गर्मी में ना नहाओ तो लोग ऐसे देखते हैं जैसे कि कुछ पाप कर दिया हो। ठंड में कम से कम ये भेदभाव नहीं होता। अब ठंड जैसे जैसे खत्म हो रही है मेरी बेचैनी बढ़ती जा रही है क्योंकि ठंड में तो ज्यादतर लोग नहीं नहाते, आपके शरीर से बदबू आ भी रही हो तो कोई पता नहीं लगा सकता कि किसके शरीर से आ रही है। अब गर्मी में तो रोज़ नहाना ही पड़ेगा। मैं तो कहता हूँ पानी बचाओ अभियान के तहत हफ्ते में तीन दिन नहाने का आदेश देना चाहिए।”

वरुन की माँ ने बताया “मैं तो इसकी आदतों से परेशान हो चुकी हूँ,बचपन में तो ये बाथरूम की दीवार पर पानी फेंक कर बाहर आ जाता था ताकि मुझे लगे कि इसने नहाया है। एक बार गलती से जो कपड़े पहन कर अंदर गया था वही पहन कर बाहर आया तब मुझे इसकी कारस्तानी का पता लगा।”



ऐसी अन्य ख़बरें