Tuesday, 12th December, 2017

चलते चलते

कम पैसों में भी मनाई जा सकती है दिवाली : टेक कंपनी के बॉस ने किया दावा

16, Oct 2017 By Ritesh Sinha

मुंबई. जानी-मानी टेक कंपनी ‘नेवर ग्रीन टेक्नोलॉजी’स (NGT)’ के सभी एम्लायीज कल अपने बॉस के पास दिवाली बोनस मांगने पहुंचे थे। कर्मचारियों की मांग सुनकर उनके बॉस लालचंद बग्गा जी का चेहरा अरुण जेटली की तरह उतर गया। पांच मिनट तक लगातार सबका चेहरा घूरने के बाद आखिरकार बग्गा जी बोल पड़े। उन्होंने सबके सामने दावा कर दिया कि, “कम पैसों में भी दिवाली मनाई जा सकती है, इसलिए इस साल कोई बोनस नहीं दिया जाएगा!” उन्होंने दावा किया कि, वे खुद पिछले दस सालों से इसी फार्मूले पर दिवाली मनाते आ रहे हैं।

ऐसे मनाईए सस्ती दिवाली
ऐसे मनाईए सस्ती दिवाली

इसके अलावा उन्होंने और भी बहुत सारे दावे किए, जो सिर्फ उन्हें ही सूट करते थे। उनकी यह दलील सुनकर कंपनी के सारे एम्लायीज हक्के-बक्के रह गए। सबसे आगे खड़े गौरव बत्रा ने प्रश्न किया- “..लेकिन सर! ऐसे कैसे हो सकता है? क्या आप हमें सन्यासी समझते हैं?”

यह सवाल सुनकर मि. बग्गा ने ज्ञान देना शुरू कर दिया- “देखो! पटाखे तो तुम खरीदो ही मत! वैसे भी दिल्ली में बैन लग चुका है, मुंबई और चेन्नई में तो इस इस साल बाढ़ आई थी। बच गया कोलकाता, तो वहां तो “दीदी” दिवाली मनाने दे देती है, यही बहुत बड़ी बात है! ऐसे में पटाखे क्यों खरीदना? गुरुग्राम और बैगलोर वाले तो ट्रैफिक में ही फंसे रहते हैं! और फिर गिफ्ट में सस्ती मिठाई देने का चलन तो बरसों से चला आ रहा है! जो मिले वही आगे पॉस कर दो! ये सब करोगे तो पैसे बचेंगे कि नहीं?”-बग्गा ने आखिर में एक सवाल चिपका दिया।

अपने बॉस का अनोखा जवाब सुनकर सभी एम्लायीज के कंधे झुक गए। “क्या आप हमें बेवकूफ समझते हैं? यूँ हमें बातों में मत उलझाइए, हम बच्चे नहीं हैं! चलो..चलो! इनके सामने बीन बजाने से कुछ फायदा नहीं होगा!”-कहते हुए सभी एम्लायीज केबिन से बाहर चले गए।

मि. बग्गा को अपने इस व्यवहार का कोई गम नहीं है। फेकिंग न्यूज़ से बातचीत में उन्होंने बताया कि, “नहीं! मैं झूठ नहीं बोल रहा हूँ! मैं हमेशा से कंजूसी से दिवाली मनाने का समर्थक रहा हूँ, और मैं चाहता हूँ कि हमारी कंपनी के एम्लायीज भी इस विरासत को आगे बढाएं! बोनस दे देंगे तो उनका ध्यान भटकेगा! कम पैसों में भी दिवाली मनाई जा सकती है यार! बस, यही बात है! बोनस ना देने के हमारा कोई छुपा हुआ एजेंडा नहीं है!”-मि. बग्गा ने तर्क दिया।

उधर, मि. बग्गा अपने इस ट्रिक से लगातार मशहूर होते जा रहे हैं। माना जा रहा है कि वे अगले साल एक कंसल्टेंसी फर्म की शुरुआत कर सकते हैं, जो बोनस ना देने के फील्ड में कंपनियों को सलाह देगी। पैसे लेकर, फ्री में नहीं!



ऐसी अन्य ख़बरें