Wednesday, 18th October, 2017

चलते चलते

सेल्फ़ी के चक्कर में पहाड़ से फिसलकर युवक पहुंचा परलोक, नर्क में बिन-कैमरा का फोन देकर तड़पाया जा रहा है

14, Jul 2015 By Pagla Ghoda

शिमला, हिमाचल: अभिजीत बम्बुरा नामक युवक जो की सेल्फ़ी लेने के चक्कर में पिछले शुक्रवार पहाड़ी से फिसलकर अपनी जान से हाथ धो बैठा था, अब एक तांत्रिक द्वारा अपने घरवालों को संदेश भिजवा रहा है के वह नर्क में है और सकुशल है। उसने साथ ही ये भी संदेश भिजवाया है के उसके सेल्फ़ी लेते रहने की गन्दी लत के कारण उससे नर्क में बिन कैमरा का फोन देकर प्रताड़ित किया जा रहा है।

तांत्रिक अघोरी टिपणिस बाबा ने फेकिंग न्यूज़ से बात करते हुए अभिजीत का हाल बयान किया – “पिछले कुछ वर्षों में नर्क के कानूनों में कुछ बदलाव आये हैं। नए किस्म के आदिभौतिक पापियों को सजा देने के लिए नर्क में कुछ नयी सज़ाएं ईजाद की गयी हैं। मसलन नर्क में फोन नेटवर्क वैसे ही थोड़ा खराब रहता है, फेसबुक, ट्विटर एकदम चलता नहीं है, कोई फाइल 99% के बाद डाउनलोड नहीं होती। ये सब चीज़ें करके वहां लोगो को तड़पाया जाता है। जलते तेल वाली कढ़ाइयां अब आउटडेटिड हो चुकी हैं।”

“उसके ऊपर फिर पापियों को specific सजा का भी प्रावधान है। जैसे इस बालक अभिजीत को एक बिन कैमरा का फोन दिए जाने से वह सेल्फ़ी नहीं ले पा रहा है, और बहुत ही परेशान है। ” – तांत्रिक बाबा ने जानकारी दी।

सेल्फी बॉय अभिजीत बम्बुरा की आखरी सक्सेसफुल सेल्फी
सेल्फी बॉय अभिजीत बम्बुरा की आखरी सक्सेसफुल सेल्फी

अभिजीत के बड़े भाई विश्वजीत ने अपने आंसू पोंछते हुए कहा – “अच्छा है बिन कैमरे का फ़ोन मिला है हरामी को, जब देखो सेल्फ़ी खींचता रहता था, और फेसबुक पे अपलोड करके हमें टैग करता रहता था, मरने दो साले को वहीँ।”

तांत्रिक बाबा से इस समस्या का हल पूछने पर उन्होंने एक गहरी सांस ली और कुछ देर तक किसी मंत्र का जाप किया, उसके तुरंत बाद मुस्कुराते हुए उन्होंने कहा – “इसका इलाज है एक नया स्मार्टफोन। अगर मृतक के परिवार वाले मुझे एक नया स्मार्टफोन दान कर दें, तो I will make sure के ये स्मार्टफोन बालक अभिजीत को नर्क में डिलीवर करवा दिया जायेगा।”

ये पूछने पर के नर्क में स्मार्टफोन की डिलीवरी आखिर होगी कैसे, तांत्रिक बाबा ने कहा – “ये सब बातें समझायी नहीं जाती, बस हो जाती हैं| अब आप जाइये, कुछ कन्याएं आने वाली हैं, हमारी तंत्रा-प्रैक्टिस का टाइम हो गया है।”

जहाँ अभिजीत के माता पिता एक नया स्मार्टफोन खरीद के तांत्रिक बाबा को देने की सोच रहे हैं, वहीँ बड़े भाई विश्वजीत ने तांत्रिक बाबा को किसी भी तरह का कोई भी दान करने से साफ़ इंकार कर दिया है, उन्होंने कहा –

“अव्वल तो मैं इस मक्कार तांत्रिक की बातें मानता नहीं, मॉम-डैड पता नहीं क्यों इससे बुलाये रहते हैं। उसपर जब मैंने इस कमीने तांत्रिक को फ़ोन देने से मना किया तो कहता है के खरीद के मत दो, कैश पेमेंट कर दो या कार्ड भी एक्सेप्टेड है। क्रेडिट कार्ड मशीन निकाल ली हरामखोर ने। आप बताइये ये तांत्रिक है के बिज़नसमैन?”

“दूसरा अगर इसकी बातों में सच्चाई भी है, तो भी मैं अब अभिजीत की गन्दी आदतों के लिए एक और नया पैसा खर्चने नहीं वाला हूँ। पिछले पाँच सालों में पच्चीस फोन बदल चूका था, मुझे हौंडा की नयी बाइक लेनी थी, मुझे तो वो दिलवाई नहीं गयी। साहिबजादे एक नए फोन के साथ हर दुसरे दिन नज़र आते थे। अगर वो खुद नहीं फिसलता न पहाड़ी से, तो मैं ही फेंक देता कमीने को।” – यह कहकर विश्वजीत फुट-फुट के रो पड़े।

हालाँकि ये तो अभी साफ़ नहीं हुआ है के इस केस में आगे क्या होगा परन्तु सेल्फ़ी लेते नौजवानों की सुरक्षा के लिए राज्य सरकार अब कुछ ठोस कदम उठाने वाली है। सरकार ने अब पहाड़ियों के किनारों पर और अत्यधिक ट्रैफिक वाली सड़को के साइड में “सेल्फ़ी लेने वाले सावधान” के बोर्ड्स लगवाने शुरू कर दिए हैं। उम्मीद की जा रही है के अपने स्मार्टफोन में मग्न युवक युवतियां अपने फोन से नज़रे हटा कर इन बोर्ड्स को पढ़ेंगे और अपनी जान की रक्षा करेंगे।



ऐसी अन्य ख़बरें