Wednesday, 20th September, 2017

चलते चलते

SBI खाते में न्यूनतम बैलेंस न रख पाने के कारण लगी पेनल्टी को काले धन की क़िस्त समझ बैठे युवक

16, Sep 2017 By Akash Gupta

एजेंसी. भारतीय स्टेट बैंक द्वारा एक अप्रेल 2017 से लागू नए नियमों के अनुसार बचत खाते में न्यूनतम बैलेंस न रख पाने पर लगायी जा रही पेनल्टी के कारण मध्य प्रदेश के इंदौर शहर में एक दर्दनाक वाकया सामने आया हैI यह घटना दो मित्रों, आदर्श पंसारी और रिषभ गुप्ता के साथ घटी, दोनों ही मूलतः शिवपुरी, मध्य प्रदेश के रहने वाले हैं और पिछले चार वर्षों से इंदौर में रहकर प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे हैंI

अकाउंट चेक करने बैंक जाता आदर्श
अकाउंट चेक करने बैंक जाता आदर्श

कल शाम आदर्श पंसारी, जो लगातार बैंक खाते हैक होने की वारदातों के कारण कभी अपने खाते में 200 रूपए से ज्यादा नही रखते, ये सुनिश्चित करने एटीएम गये की कहीं खाता हैक तो नही हो गया, लेकिन जब उन्होंने एटीएम स्लिप देखी तो पाया खाते में 5200 रूपए हैंI जब यह बात आदर्श ने अपने घनिष्ठ मित्र ऋषभ को बताई तो ऋषभ ने भी तुरंत अपना खाता चैक किया और पाया की उसके खाते में भी 5000 आये हैंI

तमाम विचार विमर्श के बाद दोनों इस निष्कर्ष पर पहुंचे की यह राशि सरकार द्वारा प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत जारी की गयी पहली क़िस्त है, जिसके अंतर्गत गरीबो को 15-15 लाख का काला धन दिया जाएगाI इस बात की ख़ुशी में दोनों बिना देर किये पार्टी करने नजदीकी बार पहुंच गए और जमकर पार्टी की, बार स्टाफ ने बताया की उस रात दोनों ने प्रधानमंत्री जिंदाबाद के खूब नारे लगायेI और अंत में जब पेमेंट करने पहुंचे तो दोनों के कार्ड में अपर्याप्त राशि पायी गयी, जिसके कारण बार के हट्टे-कट्टे बॉउन्सरों ने दोनों की खूब धुलाई कर दीI

अगले दिन सुबह जब दोनों बैंक ब्रांच पहुंचे तो कॉउंटरो पर कभी न ख़त्म होने वाले लंच ब्रेक से परेशान होकर शाम को ब्रांच मैनेजर श्री भटनागर जी के पास गएI जब ऋषभ ने मैनेजर को बताया की उनके खाते में 5000 रूपए हैं बस इतना सुनते ही भटनागर जी ने दोनों के एक्सीडेंटल इंश्योरेंस, हेल्थ इंश्योरेंस और एसबीआई लाइफ इत्यादि फॉर्म भरवा लिए लेकिन जब उन्होंने अपने कंप्यूटर में देखा तो पाया कि दोनों के खातों में मिनिमम बैलेंस न रख पाने की वजह से 5000 की पेनल्टी लगायी गयी है जिससे उनका बैलेंस माइनस 5000 हो गया है, जब ये बात श्री भटनागर जी ने ये बात आदर्श और ऋषभ को बताई तो दोनों को अचानक ही भीषण हृदयाघात आ गया और उन्हें नजदीकी सरकारी अस्पताल ले जाया गया जहाँ उनकी स्तिथि में सुधार बताया जा रहा हैI

इस दर्दनाक घटना के बाद फेकिंग न्यूज़ संवाददाता ने एक वरिष्ठ भाजपा नेता और केंद्रीय मंत्री से बात की तो उन्होंने पूरी बात सुने बिना ही इस घटना की कड़े शब्दों में निंदा कर डाली वहीं कांग्रेस के एक कद्दावर नेता और मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री ने इस घटना के लिए आरएसएस को जिम्मेदार बताया है



ऐसी अन्य ख़बरें