Sunday, 30th April, 2017
चलते चलते

पानी बचाने के नाम पर वॉटरलेस होली की माँग करने वालों के घरों में एक दिन छोड़कर आएगा पानी

06, Mar 2017 By banneditqueen

नयी दिल्ली. कोई भी त्यौहार आने से पहले कुछ एक्टिवस्टों को अचानक ही पर्यावरण की चिंता होने लगती हैl वे अपने वातानुकूलित ऑफिसों में बैठकर फेसबुक पर पर्यावरण की चिंता जता रहे होते हैंl होली, दिवाली और अब तो रक्षाबन्धन भी, ऐसा कोई त्योहार नहीं जिसमें इनका पर्यावरण प्रेम ना जागे। इस वर्ष भी होली आने से पहले वॉटरलेस होली की माँग की जा रही हैl कुछ लोगों का तो यह भी कहना है कि होली में बच्चों को “आतंक” फैलाने का मौका मिल जाता हैl

बलम की पिचकारी में इस वर्ष नहीं होगा पानी
बलम की पिचकारी में इस वर्ष नहीं होगा पानी

”पानी के गु्ब्बारे फेकने से हुई चार मौतें, 50 घायल” -शायद ऐसी कोई खबर हमें अगले कुछ सालों में पढ़ने को मिल जाएl ‘वॉटरलेस होली’ इसीलिये क्योंकि पूरे वर्ष में एक यही दिन है जब पानी की बर्बादी होती है। सरकार ने भी पानी बचाने के इस संदेश को काफी गम्भीरता से लिया है। जल मंत्रालय ने ऐसे लोगों को, जो कि पानी बचाने के मुद्दे को काफी गम्भीरता से लेते हैं, प्रोत्साहित करने के लिये एक अनूठा निर्णय लिया है।

जल मंत्री उमा भारती जी ने बताया कि “जो भी व्यक्ति भविष्य की चिंता कर पानी बचाने का संदेश दे रहा है हम उनका स्वागत करते हैं। मंत्रालय यह भी मानता है कि ‘चैरिटी बिगिन्स ऐट होम’ या पूज्य बापू के शब्दों में आप जो बदलाव समाज में चाहते हैं, वो पहले खुद में लाएँ। इस बात को मद्देनज़र रखते हुए हम पानी बचाने का संदेश देने वालों के घर हर दूसरे दिन पानी सप्लाई करेंगे। यही नहीं, इन लोगों के घरों में नज़र रखी जाएगी और यह देखा जाएगा कि ये लोग अपनी कार या स्कूटर धोने के लिये पाइप का इस्तेमाल तो नहीं कर रहे। सबसे ज्यादा पानी की बचत करने वाले को ही अगले वर्ष वॉटरलेस होली की माँग करने की आज़ादी दी जाएगी।” इस ऐलान के बाद से कई कीबोर्ड वॉरियर्स ने अपने वॉटरलेस होली के संदेश हटा दिये हैं।



ऐसी अन्य ख़बरें