Thursday, 21st September, 2017

चलते चलते

पिज़्ज़ा छीनकर भागते लुटेरे से पिज़्ज़ा बॉय ने कहा, भाई चिली फ्लेक्स तो ले जा, हुआ इमोशनल सीन

21, Jan 2017 By Pagla Ghoda

गुरुग्राम: गत कुछ हफ़्तों से गुरुग्राम में पिज़्ज़ा के लुटेरों का आतंक काफी बढ़ गया है। मास्क पहने अज्ञात लुटेरे बाइक पे आते हैं और पिज़्ज़ा बॉय जब स्कूटर पार्क करने में व्यस्त होता है तो उसके हाथों से पिज़्ज़ा, गार्लिक ब्रेड इत्यादि छीनकर रफूचक्कर हो लेते हैं। इसी बीच एक इमोशनल सीन भी सामने आया है जहाँ पिज़्ज़ा बॉय रोहित गोलेवाल ने पिज़्ज़ा छीनकर भागते हुए लुटेरे को न केवल जाने दिया बल्कि उसे रोककर उसे चिली फ्लेक और ओरेगानो मसाला भी दिया। उसके ऐसा करते ही वो लुटेरा भागने के बजाये अपनी जगह पे स्थिर हो गया और कुछ सेकेण्ड बाद फूट फूट कर रोने लगा। आसपास भीड़ इकठ्ठी हो गयी और एक दो कॉलेज गर्ल्स जो पास से गुज़र रही थीं वो भी उस पूरे वाक्या को सुनकर अश्रू बहाने लगीं। पूरा सीन काफी इमोशनल हो गया और उसी का फायदा उठाकर एक खोमचे वाला वहां लगी भीड़ को कई कप चाय भी बेच गया।

अपने हाथ से पिज्जा देता डिलिवरी ब्वाय
अपने हाथ से पिज्जा देता डिलिवरी ब्वाय

खैर बाद में उस लुटेरे मंगलू ने खुद को पुलिस के हवाले किया और कूबूल किया के उसे पिज़्ज़ा खाने का कतई शौक नहीं हैं, वो तो बस पेट भरने के लिए पिज़्ज़ा लूटता हैऔर खा जाता है। उसने बताया, “मैं चोर नहीं था साहब, एमए पास हूँ। पिछले कई महीने से नौकरी ढूंढ रहा हूँ, लेकिन हर जगह धक्के। तो बस कर दिया ये काम शुरू। पिछले दो महीने में हम लोगो ने बीस पचीस पिज़्ज़ा स्नैचिंग की वारदातों को अंजाम दिया है। पिज़्ज़ा के साथ अच्छी बात ये है के एक ही बॉक्स में रहता है और फटाफट खाया जाता है। अब रोटी सब्जी चुराके भागेंगे तो भागते भागते ही सब्जी का रस बह जायेगा। फिर रोटी डुबॉके खाओ सब्जी में, हाथ भी गंदे हो जाते हैं, इतने में कोई देख लेतो और मुसीबत। पिज़्ज़ा में ये सब टेंशन नहीं, फटाफट पीस मुहँ में दबाओ, बॉक्स फेंको और कट लो। न कोई सबूत न कोई गवाह। कोई कांस्टेबल पकड़ भी ले तो दो पीस उसे दे दो तो खुश होके छोड़ भी देता है।”

जब मंगलू से उसके रोने और खुद को सरेंडर करने का कारण पूछा गया तो मंगलू फिर से भावुक हो गया। आँखें मलते हुए उसने कहा, “उस डिलीवरी वाले लड़के ने रुला दिया भाई साहब जी। मैंने छीन के भागना शुरू किया तो उस बेचारे ने मुझे रोका नहीं। उसने कहा “भाई तुम्हें भूख लगी होगी, आराम से ले जाओ, इसके पैसे मैं अपनी जेब से दे दूंगा।” तो मुझे लगा पता नहीं ये कौन अनोखा आदमी है। फिर उसने कहा एक मिनट रुको भैया पिज़्ज़ा ऐसे कैसे खाओगे, कुछ सॉस पैकेट, चिली फ्लेक भी लेते जाओ। बस उस वक़्त मैं काफी इमोशनल हो गया के यार इंसानियत भी कोई चीज़ होती है, जो इस लड़के में बहुत है, और मैं शायद भूल चूका हूँ। अब वो लड़का भाई है अपना, जीवनभर के लिए| अब अपने को उसके जैसा ही नेक ईमानदार बनना है, ये चोरी सब बंद।”

डिलीवरी बॉय रोहित से जब इस मामले में बात की गयी तो उसने कहा, “सर मैंने तो उसकी आँखों में पहले ही पढ़ लिया था कि बेचारा भूखा है। अब मैंने उसे पिज़्ज़ा दिया तो नौकरी जाए तो जाए परवाह नहीं है। कुछ अच्छा काम किया ऐसा सोचूंगा।”



ऐसी अन्य ख़बरें