Wednesday, 18th January, 2017
चलते चलते

पतंजलि बनाएगा केसर फ्लेवर वाला दूध, विमल गुटखा कंपनी से हुआ करार

20, Oct 2016 By bapuji

मुंबई. बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड, जो कि हर्बल और सात्विक उत्पाद बनाने के लिए मशहूर है, अब एक नये क्षेत्र मे प्रवेश की योजना बना रही है। आज मुंबई मे एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए बाबा रामदेव ने बताया कि पतंजलि अब कम दामों में केसर फ्लेवर वाला पवित्र, शुद्ध और जोशीला दूध भी बनाएगी जो कि एक स्टील के पैकेटबंद ग्लास मे उपलब्ध होगा।

पतंजलि का पान मसाला दूध
पतंजलि का पान मसाला दूध

एक पत्रकार के सवाल के जवाब में बाबा ने कहा कि आजकल शादी का सीज़न चल रहा है और अपनी बॉलीवुड की फ़िल्मों की मानें तो सुहागरात में केसर वाला दूध हमारी संस्कृति का एक हिस्सा बन चुका है। पतंजलि का लक्ष्य महँगे असली केसर और जड़ी बूटी से भरपूर दूध को आम जन की पहुँच में लाना है।

जब बाबा से पूछा गया कि “केसर तो काफ़ी महंगा होता है, तो उसे वो कम लागत मे उपभोक्ताओ तक कैसे ले जाएँगे?” तो बाबा ने अपने दायीं तरफ़ सफेद कपड़ों में बैठे पतंजलि के सीईओ आचार्य बालकृष्ण और बायीं तरफ़ बैठे अजय देवगन जी की ओर इशारा किया। आचार्य बालकृष्ण ने बताया कि “चूंकि कश्मीर घाटी में हालात सामान्य नहीं हैं और इस वजह से केसर की उपलब्धता कम हो गयी है और वो महँगा भी हो गया है। इसलिए पतंजलि ने विमल गुटखा कंपनी से दस वर्षीय करार किया है। हम इनके विमल के गुटखे के पाउच को अपने दुग्ध मे डालेंगे। आप तो जानते ही हैं कि विमल के दाने-दाने मे केसर का दम है!”

बाबा रामदेव ने भी इसका समर्थन करते हुए कहा कि “जितना केसर विमल के पाउच में है उतना केसर तो असली केसर में भी नही है!” जब अजय देवगन जी से इस बारे में पूछा गया कि विमल अपने उत्पादन के लिए केसर कहां से लाती है तो उन्होने मुँह मे गुटका भरे हुए कुछ जवाब दिया जो किसी की समझ मे नही आया।

अब, पतंजलि के इस फ़ैसले से अमूल और मदर डेरी जैसे दुग्ध उत्पाद वाली कंपनियो में हड़कंप मच गया है और सब अपने-अपने केसरिया उत्पाद निकालने की तैयारी मे लग गई हैं।



ऐसी अन्य ख़बरें