Tuesday, 21st February, 2017
चलते चलते

पिछले साल आॅनलाइन ऑर्डर किये जूते अब तक नहीं आए, ग्राहक ने लगाया मानसिक प्रताड़ना का आरोप

18, Oct 2016 By banneditqueen

इंदौर. सुबह जैसे ही समर की नींद खुली वैसे ही उसके फोन पर मैसेज आया “Flat 50% off on all brands shop now”। समर मुँह धोकर लैपटॉप के सामने बैठ गया और पूरे तीन घंटे के बाद जाकर एक जूता पसंद किया। उसने तुरंत ही “Place order” क्लिक किया और सारी जानकारी भरी। ऑर्डर प्लेस होने के बाद उसे मैसेज और ईमेल दोनों मिले जिसमें सूचना दी गई की ऑर्डर कन्फर्म हो गया है। फ्लिपकार्ट की तरफ से यह भी बताया गया कि डिलिवरी 8 से 9 वर्किंग डेज़ में हो जाएगी। समर रोज़ डिलिवरी स्टेटस चेक करता।

इंतज़ार कर के थक चुका समर
इंतज़ार कर के थक चुका समर

तकरीबन 8 दिन हो चुके थे पर समर के जूतों की डिलिवरी अभी तक नहीं हुई। समर ने सोचा कि “9 दिन लिखा था हो सकता है कल आ जाए।” पर अगले दिन भी उसके जूते नहीं आए। परेशान होकर उसने कस्टमर केयर को फोन लगाया, कस्टमर केयर वाले ने बहुत दिल से समर से माफी माँगी और कहा कि “लॉजिस्टिक्स के इस्यूज़ के चलते डिलिवरी नहीं हो पाई पर कुछ ही दिनों में हो जाएगी।” समर ने फिर कुछ और दिन इंतज़ार किया। जैसे ही डोरबेल बजती वह इसी उम्मीद में रहता कि शायद मेरे जूते आ गये होंगे पर हर बार उसकी उम्मीद पर पानी फिर जाता। उसने लगभग रोज़ ही कस्टमर केयर में शिकायत की पर कुछ फायदा नहीं हुआ। इस बात को अब लगभग एक साल हो चुका है।

समर के जूतों का डिलिवरी स्टेटस अभी तक इन ट्रांसिट ही है। एक साल बाद समर ने तय किया कि वह फ्लिपकार्ट के खिलाफ कोर्ट केस करेगा। फेकिंग न्यूज़ से बातचीत में उसने कहा कि ” मेरे पास सारे मेल्स और फोन कॉल्स की रिकॉर्डिंग मौजूद है और अब मैं कम्पनी से मुझे मानसिक रूप से प्रताड़ित करने के लिये हर्ज़ाना चाहता हूँ।” फ्लिपकार्ट की तरफ सेे इस केस पर कोई टिप्पणी नहीं करना चाहता। एक कर्मचारी ने नाम ना बताने की शर्त पर बताया “अब क्या बताऊँ मैं तो खुद कई बार परेशान हुआ हूँ, आजतक बीवी के लिये मंगाई साड़ियाँ डिलिवर नहीं, हुई तलाक हो जाता जी मेरे़ा तो!”देखना यह है कि अब भी समर के जूते डिलिवर होते हैं या नहीं।



ऐसी अन्य ख़बरें