Sunday, 25th February, 2018

चलते चलते

हरी सब्ज़ियों से लदा ठेला देखकर नान-वेज खाने वाले बंदे को हुई उल्टियाँ, कोर्ट में दायर करेगा जनहित याचिका

03, Feb 2018 By Pagla Ghoda

आज़ादपुर मंडी, नई दिल्ली. दिल्ली के आज़ादपुर इलाक़े के नागरिक रोसेज गुप्ता को तब भयंकर उल्टियाँ हो गयीं, जब वो सब्ज़ी मंडी से गुज़र रहा था और उसने फूल-गोभी, पत्ता-गोभी, शिमला-मिर्च, पालक, मेथी, बैंगन, भिंडी और हरी मिर्च से ठसाठस भरा ठेला देख  लिया।

Vegetable Vendor
इसी दृश्य को देखकर हुईं रोसेज को उल्टियाँ

रोसेज के भाई सोसेज ने फ़ेकिंग न्यूज़ को बताया, “हम लोग देखिए प्युअर नान वेजेटेरियन हैं। सरल खाद्य पदार्थ जैसे के चिकन मटन कीमा, टेंडर-लाइन स्टेक इन्ही का सेवन करके जीते हैं। सब्ज़ियाँ खाना तो दूर, देखने भर से ही हमें मितली होने लगती है। हमारे घर भी वेज की सख़्त मनाही है, बनती हाई नहीं है कभी! कभी किसी को वेज खाना भी हो तो हम लोग दोस्तों के घर खाके आ जाते हैं। लेकिन बाहर कहीं मार्केट में निकलो तो हरी-भरी सब्ज़ियाँ कैसे ठूँसी रहती हैं ठेलों पे, कितना खुले आम इस प्रकार वेज पदार्थों का प्रदर्शन पूरी मंडी में किया जाता है। गोभी के बड़े बड़े फूल, बैगन के हरे सींग, करेले की टेढ़े मेढ़े तड़के, पालक की छेद हुई पत्तियाँ, ओफ़्फ़ो, कितनी दिक़्क़त है हम नान-वेज लोगों को। इसके लिए सरकार कुछ करती क्यों नहीं है?”

कुल्ला करके पानी पीने के बाद रोसेज की साँस में साँस आयी और उसने भी हमारे संवाददाता से बात की, “जब वेज लोग चिकन मटन की दुकान पे मुर्ग़ों की प्रदर्शनी देख के मुँह बनाते हैं तो वो सामाजिक तौर पर स्वीकार्य है, लेकिन यदि हम माँसाहारी लोग सब्ज़ियों को देख कर ख़राब महसूस करते हैं तो वो मान्य नहीं है क्या? बिलकुल नहीं साहब, मैं तो जनहित याचिका लाने वाला हूँ के किसी भी प्रकार की सब्ज़ियों का खुलेआम प्रदर्शन बंद हो। बहुत दिक़्क़त होती है हम नान-वेज लोगों को, हमारी भावनाओं का ख़याल रखते हुए सभी सब्ज़ियाँ अब प्राइवेट में बेची जाएँ, बंद कमरों में। अगर पुलिस, कोर्ट, गोरमिंट हमारी बात नहीं सुनेगी तो हमें मजबूरन सरकार अर्थात सुभाष नागरे जी के पास जाना होगा। वही हमें न्याय दिलाएँगे।”

एक और जहाँ माँसाहारी लोग सब्ज़ियों की खुलेआम बिक्री पर रोक की माँग कर रहे हैं, वहीं जलेबियों से चिढ़ने वाला एक छोटा सा तबक़ा अब हलवाइयों की दुकानों पर जलेबियों के खुलेआम प्रदर्शन के विरुद्ध एक जनहित याचिका उच्च नयायालय में दायर करने वाला है।



ऐसी अन्य ख़बरें