Wednesday, 26th July, 2017
चलते चलते

मोबाइल चार्ज करने के चक्कर में खड़े खड़े सो गया युवक

18, Oct 2016 By banneditqueen

मुंबई. मोबाइल एक ऐसा यंत्र जो आजकल आम जिंदगी में ऑक्सीजन जैसा हो गया है। आप मंदिर में हो या किसी के जनाज़े में इस टुनटुने के बिना गुज़ारा नहीं होता। फोन में सबसे ज्यादा जरूरी है इंटरनेट या वाई फाई और उससे भी ज्यादा जरूरी है चार्ज। जैसे प्यासा कूँआ ढूँढता हेै वैसे एक मोबाइल धारक चार्जर और स्विचबोर्ड ढूँढता है। जैसे जैसे मोबाइल बैटरी हरे से लाल निशान दिखाती है वैसे वैसे मोबाइल धारक की धड़कने बढ़ने लगती हैं। मोबाइल चार्ज करने के चक्कर में लोग क्या क्या नहीं करते इसका नमूना हमें मुम्बई के थाने में देखने को मिला।

खड़े खड़े सोता पराग
खड़े खड़े सोता पराग

थाने में रहने वाले पराग कल जब ट्यूशन से आए तब उनके फोन की बैटरी लगभग खत्म होने का कगार पर थी। यह देख कर वह टेंशन में आ गया, उसने तुरंत ही फोन चार्ज में लगाया और खाना खाने चला गया। खाना खाकर ट्यूशन का होमवर्क किया और सोचा “अब तो फोन चार्ज हो गया होगा, रातभर मिहिका से चैट कर पाउँगा।” पर जैसे ही उसने कमरे में जाकर फोन चेक किया तो उसके होश उड़ गये। पराग जल्दबाज़ी में स्विच ऑन करना भूल गया। रात के 11 बच चुके थे और व्हॉट्सैप पर मिहिका के 10 मैसेज थे। पराग ने सोचा कि वाई फाई चलाने के लिए मुझे फोन चार्ज में लगाए रखना पड़ेगा। स्विचबोर्ड उसके बेड से काफी दूर था।

चार्जर का तार छोटा होने के चलते पराग को वहीं खड़े होकर फोन चार्ज करते हुए बात करनी पड़ी। पराग ने तकरीबन एक घंटा खड़े होकर चैट किया। बात करते करते पराग को कब नींद आ गई उसे पता ही नहीं लगा। अगले दिन पराग की माँ उसे स्कूल के लिये उठाने आई तो देखा कि पराग खड़े खड़े सो रहा था। उसकी माँ ने दो तीन बार आवाज़ लगाई पर पराग की नींद नहीं खुली। पराग की माँ ने पराग के ही फोन से उसकी फोटो खीचकर फेसबुक पर डाल दी। कुछ ही घंटों में यह पिक्चर वायरल हो गई। पराग को इस बारे में तब पता चला जब वह स्कूल पहुँचा और उसके क्लासमेट्स ने मिलकर उसे पॉवर बैंक गिफ्ट किया।



ऐसी अन्य ख़बरें