Friday, 24th November, 2017

चलते चलते

खिचड़ी पर आउटरेज कर रहे पति को पत्नी ने थमाई लौकी, कहा 'घर की नेशनल डिश यही है'

03, Nov 2017 By banneditqueen

इंदौर.  इंदौर शहर वैसे तो अपने खाने के लिए जाना जाता है पर शहर चाहे खाने के लिए कितना ही मशहूर हो घर में तो पत्नी और माँ वही घिसा पिटा खाना ही बनाते हैं। इंदौर में रहने वाले संतोष अग्रवाल को कल जब ये पता चला कि खिचड़ी को राष्ट्रीय भोजन घोषित किया जा रहा है वो गुस्से में तमतमा उठे। संतोष इस बात से खासे नाराज़ थे कि इंदौर के प्रचलित ‘सेओ पोए” के बारे में सरकार ने कुछ क्यों नहीं सोचा।

चाट पकौड़ी के सपने देख रहे संतोष को लौकी से करना पड़ा संतोष
चाट पकौड़ी के सपने देख रहे संतोष को लौकी से करना पड़ा संतोष

संतोष ने अपनी पत्नी से कहा ”ये बीजेपी वाले पगला रहे हैं, कभी इनको सराफा बाजार घुमाते हैं। ऐसा खाना खिलाएंगे ये सब खिचड़ी वगैरह भूल जाएंगे।  याद है तीन साल पेले अपन ने भुट्टे का कीस खाया था ? कहाँ ये खिचड़ी में पड़े हैं।” संतोष की पत्नी नीलिमा चुपचाप खड़े होकर यह सुन रही थी। कुछ देर बाद वो किचन में गई और संतोष के लिए खाने की थाली सजा के लाई। पर खाने की थाली में लौकी की सब्ज़ी देख संतोष का मुँह उतर गया।

संतोष ने कहा ”ये क्या ? मैं यहाँ इंदौर के ज़ायके की तारीफ कर रहा हूँ और तुम हो कि लौकी की सब्ज़ी ले आई।” इतना सुनते ही नीलिमा ने कहा ”बड़े आए सराफा का ज़ायका, शादी हुए पांच साल हो गए और आजतक केवल एक बार ही सराफा लेकर गए हो पर एक मौका नहीं छोड़ते याद दिलाने का। कभी बोल दो कि आज कचौड़ी खिला दो तो सेहत का ख्याल आने लगता है। कल से मैं भी खिचड़ी ही दूंगी खाने में और घर की नेशनल डिश तो लौकी ही है यही खाकर काम चलाइए।” इतना सुनते ही संतोष बाज़ार कचौड़ी खाने के लिए चला गया।



ऐसी अन्य ख़बरें