Tuesday, 24th October, 2017

चलते चलते

मुद्रा योजना से लोन लेकर नकली मुद्रा छाप रहा था युवक, भेजा गया जेल

20, May 2017 By Ritesh Sinha

भागलपुर. बिहार पुलिस ने मुद्रा योजना से लोन लेकर नकली मुद्रा छापने वाले, गज्जू नाम के युवक को गिरफ्तार किया है। मुद्रा योजना में मिले पैसों को इस तरह के कामों में लगाने का यह पहला मामला सामने आया है। दरअसल, गज्जू अपने द्वारा ही छापे गए नोट लेकर गोवा घूमने गया और वहां जमकर पैसे उड़ाने लगा। वह होटल के कर्मचारियों पर रौब मारता और उनसे कहता कि ‘तुम्हारे होटल को ही खरीद दूंगा मैं!’ यह सब देखकर होटल वालों ने पुलिस को बुला लिया। जब उसके पर्स में रखे नोटों की जांच की गई तो वह नकली निकला। बस, फिर क्या था, पुलिस ने उसे ‘बीच’ के बीच से ही गिरफ्तार कर लिया और बिहार पुलिस के हवाले कर दिया। अदालत ने गज्जू को कुछ दिन जेल में ही गुजारने का आदेश दे दिया है।

गज्जू द्वारा छापे गए नक्ली नोट
गज्जू द्वारा छापे गए नक्ली नोट

सड़क किनारे चाय की टपरी में पुलिस वालों के साथ चाय पी रहे गज्जू ने फेकिंग न्यूज़ से विशेष बातचीत की। “तुम यहाँ क्या कर रहे हो? तुम्हे तो जेल में होना चाहिए? ऐसा पूछे जाने पर गज्जू ने बताया कि “हाँ, मुझे जेल ही तो ले जा रहे हैं, बीच में ये चाय की दुकान दिख गई तो चाय पीने रूक गए।”-गज्जू ने पुरानी सी गिलास से चाय की चुस्की लेते हुए कहा।

“ये मुद्रा योजना के लोन से नकली मुद्रा छापने का आईडिया तुम्हे कहाँ से आया ?” ऐसा पूछे जाने पर उन्होंने विस्तार से बताया कि “देखो! लोन का पैसा मिलते ही, मैं सोचने लगा कि इस पैसे से क्या बिजनेस शुरू करूँ? पहले मैं सब्जी का धंधा शुरू करने वाला था, लेकिन मुझसे पहले मुरलीधर ने ये धंधा शुरू कर दिया। फिर मैंने सोचा कि गर्मियों में बरफ बेचने का धंधा शुरू कर दूँ, लेकिन इसमें भी डोमन मुझसे आगे निकल गया। आखिर में मैं दारू का ठेका खोलने वाला था कि नीतीश ने दारू ही बंद कर दिया। अब आदमी जाए तो जाए कहाँ?”-गज्जू गुस्से में बोला।

“मुझे उस समय बहुत गुस्सा आया। जो भी मैं सोचता, साले सब उसी धंधे में आ जाते। कोई धंधा मेरे लिए छोड़ा ही नहीं। फिर मैंने सोचा कि कुछ ऐसा बिजनेस किया जाए, जिसकी नक़ल कोई कर ही ना सके। और मैंने ये काम शुरू कर दिया।”-कहते हुए गज्जू ने आखिरी घूंट मारी और अपना गिलास बाल्टी में डाल दिया। चाय के पैसे देने के बाद वे वहां से जीप में बैठकर रवाना हो गए। उधर, गज्जू के जाते ही चायवाला, गज्जू द्वारा दिए गए पैसों को लाइट जलाकर देखने लगा।

वहीँ, नीतीश कुमार ने भी गज्जू की जमकर निंदा की है। उन्होंने कहा कि “ये गज्जू जिस थाली में खाता है, उसी में छेद करने चला था, धन्य हो हमारे जांबाज़ पुलिस जवानों का जिन्होंने थाली में छेद होने से बचा लिया। मुद्रा योजना का नाजायज़ फायदा उठाने वालों को बख्शा नहीं जाएगा।” उधर, नीतीश के इस बयान के बाद फिर से चर्चा शुरू हो गई है कि वे भाजपा से हाथ मिलाना चाहते हैं।



ऐसी अन्य ख़बरें