Thursday, 19th October, 2017

चलते चलते

भारत छोड़ो आन्दोलन से हमारा कोई लेना-देना नहीं है : माल्या और ललित मोदी ने दी सफाई

10, Aug 2017 By Ritesh Sinha

लंदन/नयी दिल्ली. भारत छोड़ो आन्दोलन के 75 साल पूरा होने पर इस वर्ष इस ऐतिहासिक आन्दोलन को देश याद कर रहा है। लेकिन अफवाह फैलाने वाले स्वार्थी लोग, अफवाह फैलाने से बाज़ नहीं आ रहे हैं। कुछ लोगों ने दावा किया है कि, “विजय माल्या और ललित मोदी, जिस दिन भारत छोड़कर भागे थे, उसी दिन की याद में भारत छोड़ो आन्दोलन पर्व मनाया जा रहा है।” चूँकि, ये दोनों भी रातों-रात भारत छोड़कर भाग गए थे, इसलिए इस अफवाह पर कुछ लोग यकीन भी कर रहे हैं।

lalit“मैं तो कहता हूँ, इन दोनों को भारत छोड़ो आन्दोलन का ब्रांड एंबेसडर बना देना चाहिए। भारत छोड़कर इन्होनें जो एहसान हम पर किया है, उसे भुलाया नहीं जा सकता। अपने जान की बाज़ी लगाए बिना ही भारत कैसे छोड़ा जाता है, यह इन दोनों ने दिखा दिया है। ये होती है सच्चाई की ताकत।” -इन अफवाहों पर यकीन करने वाले एक युवक ने हमें बताया।

वहीँ, विजय माल्या और ललित मोदी ने इन खबरों का खंडन किया है। लंदन से जारी किये गए एक साझा बयान में उन्होंने कहा है कि “भारत छोड़ो आन्दोलन से हमारा कोई लेना देना नहीं है। हाँ, ये बात सच है कि हमने भी भारत छोड़ा है, लेकिन हम बिल्कुल अलग वजह से वहां से निकले हैं, इसका आजादी की लड़ाई से कोई संबंध नहीं है। उस वक़्त तो हम पैदा भी नहीं हुए थे, इसलिए हमारी अपील है कि इंडिया के लोग ऐसी अफवाहों पर यकीन ना करें!”

बयान में विजय माल्या ने आजादी के बारे में अपने विचार भी रखे हैं। उन्होंने SBI को आड़े हाथों लेते हुए लिखा है कि ‘ तुम लोग मुझ पर दोगुना लगान लगाते हो! इसलिए मैं तुम लोगों से आज़ादी चाहता हूँ! मैं चाहता हूँ कि किसी को बैंक लोन चुकाना ना पड़े। अदालत बुलाये तो भी किसी को जाना ना पड़े। हर कोई मैदान में बैठकर चैन से मैच देख सके, और कोई किसी को भी ‘चोर’ ना कहे। यही है असली आजादी। बाकि सब मोह-माया है! यह सब मुझे वहां नहीं मिल रहा था, इसलिए मुझे भारत छोड़ना पड़ा!” उधर, प्रधानमंत्री कार्यालय ने भी इस खबर की पुष्टि की है कि संसद में हो रही चर्चा का, इन दोनों के भारत छोड़ने से कोई लेना-देना नहीं है।



ऐसी अन्य ख़बरें