Saturday, 21st October, 2017

चलते चलते

सिर्फ़ थर्मल पहन कर सुबह जॉगिंग करने निकले युवक को लगी जबर ठंड

12, Dec 2016 By bapuji

नई दिल्ली. कोहरा और सर्दिया अभी शुरू ही हुई हैं लेकिन टेलीविजन पर थर्मल वियर के विज्ञापन आने शुरू हो गये हैं। डालर अल्ट्रा थर्मल, रूपा टोरिडो, लक्स काॅट्स वूल और अमूल बॉडी वॉर्मर जैसे ब्रांड आजकल सर्दी से लड़ने के लिए एक अचूक हथियार बन चुके है। कातिल हसीनाएँ, बूढ़े, बच्चे और बर्फ मे घूमते सफेद ध्रुवीय भालू तक अपने -अपने थर्मल ब्रांड का विज्ञापन करते नज़र आ जाते है जिन्हे देखकर लगता है कि ये थर्मलवियर पहनते ही शरीर मे आग लग जाएगी और अगर कहीं एक के उपर एक पहन लो तो आत्म-दाह हो जाए। लेकिन इन विज्ञापनों पर भरोसा करना चाँदनी चौक के एक युवक को महँगा पड़ गया।

काँपते हुए दौड़ता युवक
काँपते हुए दौड़ता युवक

25 साल के मोन्टी जिनकी चाँदनी चौक में जैकेट और स्वेटर, शाॅल की दुकान है सुबह रोज 5 बजे जॉगिंग के लिए जाते है और सर्दियों मे भी उनका ये कार्यक्रम जारी रहता है। ऐसे में बढ़ती ठंड और थर्मल के विज्ञापन देखकर मोन्टी ने सिर्फ़ थर्मल पहन कर दौड़ने का सोचा। सुबह-सुबह घरवालों से “अरे क्या स्मार्ट दिखता है!” सुनकर निकला मोन्टी ये देखकर हैरान हो गया कि बाकी लोग भारी-भारी टी-शर्ट और टोपी पहन कर दौड़ रहे थे। शरारती और मज़ाकिया मोंटी ने अपने आगे दौड़ रहे खन्ना साहब के बगल मे जा कर ज़ोर से कहा की-” अरे इनके पास भी नही है” जिससे वो घबरा गये। ऐसा मज़ाक मोंटी ने कई लोगो के साथ किया। लेकिन कुछ दूर जाने के बाद मोन्टी ने महसूस किया कि उसे कान सुन्न पड़ रहे है और थोड़ी देर मे ठंड और कोहरे के मारे मोन्टी की हालत पतली हो गयी और वो गिरते-पड़ते घर पहुँचा।

शकल से बीमार लग रहे मोंटी को ठंड के मारे 102 डिग्री बुखार हो गया और अब वो दो दिन से रज़ाई और कंबल मे छुपा हुआ है। मायूस मोंटी ने कहा कि-” मैंने तो सोचा कि थर्मल में दौड़ते देखकर पड़ोस की टिया मुझे देखकर बोलेगी कि -हॉट है बॉस लेकिन यहाँ तो बीसी घना कांड हो गया अब से मैं किसी एॅड पर भरोसा नही करूँगा।” ये समाज में किसी के भी साथ हो सकता है इसीलिए फेकिंग न्यूज़ भी अपने पाठकों को सलाह देता है कि कड़ाके की ठंड मे थर्मल के साथ कुछ और भी पहन कर निकले।



ऐसी अन्य ख़बरें