Thursday, 14th December, 2017

चलते चलते

बंद पड़ी बाइक को धक्का मार रहा था युवक, क्रश ने देख लिया, हुआ शर्म से पानी-पानी

21, Nov 2017 By Ritesh Sinha

रायपुर. बीच रास्ते में अगर बाइक खराब हो जाए, तो बंदे का चेहरा देखने लायक हो जाता है, एक पल के लिए तो उसे लगता है कि पुराने जमाने की बैलगाड़ी ही ठीक थी। फिर बाइक को धक्के मारकर मैकेनिक के पास ले जाना, किसी काला पानी की सजा से कम नहीं होता।

लेकिन जो विवेक आहूजा के साथ हुआ, वो तो किसी दुश्मन के साथ भी ना हो। एक तो उसकी बाइक बीच रास्ते में खराब हुई और ऊपर से उसे उस लड़की ने धक्का मारते हुए देख लिया, जिसको वह पिछले दो महीने से लाइन मार रहा था। बेचारे की प्रेम कहानी रफ़्तार पकड़ने से पहले ही पंचर हो गई।

बाइक को धक्का मारता युवक
बाइक को धक्का मारता युवक

हुआ यूँ कि, पिछले रविवार को विवेक अपनी नयी बाइक में “फेरी” लगाने निकला हुआ था, यानि कि मीनाक्षी के घर के पास टहल रहा था। तभी उसकी बाइक ने धोखा दे दिया। चूँकि सेल्फ स्टार्ट ने काम करना बंद कर दिया था तो उसने किक मारना शुरू कर दिया, वह कितना भी किक मारता, बाइक स्टार्ट ही नहीं होती। उसने “कार्बुरेटर” निकालकर सड़क पर भी रगड़ा, लेकिन इससे भी कोई फायदा नहीं हुआ। किक मारते-मारते दो बार तो वह दूर फेंका गया था, फिर भी उसने हार नहीं मानी, वह किक मारता गया। इस बीच पसीना उसकी पीठ से होता हुआ टखने तक पहुँच चुका था।

लेकिन अब जो विवेक के साथ होने वाला था, इसका अंदाजा तो उसे सपने में भी नहीं था। मीनाक्षी उसी वक़्त ट्यूशन से लौट रही थी, और उसने विवेक को अपनी बाइक धक्का को मारते हुए देख लिया। मीनाक्षी को आता देखकर विवेक का चेहरा शर्म से पानी-पानी हो गया, काटो तो खून नहीं। उसने अपना सर नीचे कर लिया।

उस दिन से विवेक ना किसी से ज्यादा मिलता है और ना ही बातें करता है। ना जाने कैसे-कैसे सपने देखे थे उसने, लेकिन इस बाइक ने सब कुछ गुड़-गोबर कर दिया। अब तो खैर उसने अपनी बाइक बेच दी है, लेकिन फिर भी वह उस इलाके में जाने से घबरा रहा है।

उधर, मीनाक्षी को इस घटना की कोई जानकारी नहीं थी, क्योंकि उस दिन वह विवेक को पहचान ही नहीं पाई थी। उसने फेकिंग न्यूज़ को बताया कि, “अच्छा! ..तो उस दिन जो अपनी गाड़ी को धक्के मार रहा था वो विवेक था! मैंने तो पहचाना ही नहीं! बहुत बुरा हुआ बेचारे के साथ!”



ऐसी अन्य ख़बरें