Tuesday, 16th January, 2018

चलते चलते

अपडेट करने तक के लिए भी फ़ोन को स्विच ऑफ़ नहीं कर रहे आज के युवक: रिसर्च

09, Dec 2017 By Guest Patrakar

एजेंसी. अगर फ़ेविकोल को अपना कोई नया विज्ञापन करना हो तो वो किसी भी युवक को उसके फोन से चिपके हुए दिखा सकता है। आजकल के युवाओं का ये हाल है कि अगर वो अपने फ़ोन से नज़रें हटाते भी हैं तो सिर्फ़ किसी और के फ़ोन को देखने के लिए! ऐसी ही बात का ख़ुलासा हुआ है स्टैनफ़र्ड द्वारा कराए गए रिसर्च सर्वे से। सर्वे की मानें तो लगभग 94% युवक फोन अपडेट करने तक के लिए भी अपने मोबाइल को स्विच ऑफ़ नहीं कर रहे हैं।

mobile addiction
अपने फ़ोन से चिपका एक युवक

अमेरिका की प्रसिद्ध यूनिवर्सिटी स्टैनफ़र्ड ने पिछले हफ़्ते यह सर्वे कराया था। रिसर्च का विषय था ‘फ़ोन अपडेट करने में लगने वाला समय कितना और किस समय होना चाहिए’। फ़िलहाल ऐपल और ऐंड्रॉयड दोनों ही ऑपरेटिंग सिस्टम के फ़ोन लगभग दो घण्टे का समय लेते हैं और यह समय रात के दो बजे से चार बजे का समय सही माना जाता है।

इस सर्वे में यह भी पता चला कि युवकों को फ़ोन की इस हद तक लत लग चुकी है कि वे दो घंटे के लिए भी अपने फ़ोन को बंद नहीं करते और उनका फ़ोन अपडेट ही नहीं हो पाता, और फिर यही युवक फ़ोन सही ना चलने की शिकायत करते रहते हैं।

सर्वे के परिणाम के बाद हमने बात की मनोवैज्ञानिक दिशा मुखर्जी से। दिशा का कहना है कि फ़ोन के लिए ये जुनून अक्सर लड़कों में देखा गया है और ख़ासकर उन लड़कों में जो काफ़ी समय से अपने लिए प्यार या पार्टनर ढूँढ रहे हैं, यानि कि इंजीनियर! ये लड़के दिन भर लड़कियों को मैसेज करते रहते हैं और फिर लग जाते हैं उनके जवाब के इंतज़ार में! ऐसे में इन लड़कों के लिए एक सेकेंड भी फ़ोन से दूर रहना घातक साबित हो सकता है।

आजकल हर समस्या का हल फ़ोन में मिल जाता है पर अगर फ़ोन ही समस्या बैन जाए तो? घबराने की कोई बात नहीं है! मार्केट में अब ऐसे फ़ोन आने वाले हैं जो आपकी सुनेंगे मगर सीमित समय के लिए। मतलब रात में बारह बजते ही फ़ोन अपने आप बंद हो जाएगा और सुबह पाँच बजे ख़ुद ब ख़ुद चालू हो जाएगा। है ना कमाल!



ऐसी अन्य ख़बरें