Saturday, 19th August, 2017

चलते चलते

फैमिली गपशप मीटिंग में 90% बातें हँसने लायक नहीं होतीं हैं: ताज़ा सर्वे

05, Nov 2016 By Ritesh Sinha

दिल्ली. एक ताज़ा सर्वे में खुलासा हुआ है कि गपशप मीटिंग में जब परिवार के सभी सदस्य ठहाके लगाते हैं, तो उनमे से 90% बातें ऐसी होतीं हैं जिन पर हंसी नहीं आनी चाहिए फिर भी लोग जबरन हँस देते हैं। फैमिली गपशप में बैठे लोगों को लगता है कि गप्पे हाँकने बैठो तो हँसना जरूरी होता है, चाहे हँसने लायक बात हो या ना हो। तो वहीँ कुछ लोग तो सिर्फ दूसरों का साथ देने के लिए हँसते रहते हैं।

ठहाके लगाता परिवार
ठहाके लगाता परिवार

हर परिवार में एक ऐसा इंसान होता है जो गपशप के दौरान महफ़िल को अपने हाथ में ले लेता है और बाकी लोग उसकी बातों पर कई घंटों तक हँसते रहते हैं। प्रायः ये इंसान “फूफाजी” कैटेगरी के होते हैं। ऐसे लोग चाहते हैं कि उनकी हर बात पर लोग हंसें, और वहां बैठे लोग भी उनको निराश नहीं करते और उसकी हर बात पर दांत निकाल-निकालकर हँसते हैं। ये जानते हुए भी कि अभी वाली बात हँसने लायक नहीं थी।

ऐसे ही एक फैमिली गपशप का शिकार हुए एक युवक प्रमोद ने बताया कि “हमारे घर पिछले दिनों दिवाली पर बहुत सारे रिश्तेदार आए हुए थे, जिनमे एक फूफाजी भी थे। मौके का फायदा उठाते हुए फूफाजी ने लोगों को हँसाना शुरू कर दिया। फूफाजी लगातार इधर-उधर की बातें करके ठहाके लगा रहे थे। सब लोग हंस रहे थे लेकिन मुझे हंसी नहीं आ रही थी और मैं चुपचाप वहीँ पर बैठा हुआ था। हद तो तब हो गई जब फूफाजी ने व्हाट्सएप्प के पुराने जोक्स बीच-बीच में डालना शुरू कर दिया। मेरा तो खून खौल उठा।” प्रमोद ने दांत रगड़ते हुए कहा।  वहीँ इस सर्वे के आ जाने के बाद लोगों में जागरूकता आने की सम्भावना है। अगली बार ऐसी गपशप मीटिंग में परिवार के सदस्य सिर्फ उन्ही बातों पर हँसेंगे जो वाकई में हँसने लायक होगी।



ऐसी अन्य ख़बरें