Friday, 24th November, 2017

चलते चलते

ठण्ड के लिए रजाई, स्वेटर निकालते वक्त मिले पुराने 1000-500 के नोट, पूरा परिवार फूट-फूट के रोया

01, Nov 2017 By banneditqueen

भोपाल. ठण्ड का मौसम आ गया है और सुबह और रात में ठिठुरन महसूस होने लगी है। ‘सवेरे उठकर पंखा कौन बंद करे’ की झंझट से परेशान माहेश्वरी परिवार ने फैसला किया कि अब बक्सों में से रजाई,शॉल और स्वेटर निकालें जाएं। हर साल की तरह इस साल भी एक एक कर के सरे गद्दे रजाई निकालकर चटाई पर रखे जा रहे थे। माहेश्वरी परिवार का छोटा बेटा शानू सारी रजाइयों को एक एक कर छत पर धूप दिखाने के लिए रखने लगा।

500 rupee noteपर इस परिवार को कभी भी ऐसी उम्मीद न रही होगी कि यह खुशनुमा दिन मातम में तब्दील हो जाएगा। शानू ने जब अपने बिस्तर के नीचे रखी रजाइयां रखने के लिए अपना गद्दा उठाया तभी उसकी नज़र चीज़ पर पड़ी जिसकी उसको उम्मीद भी नहीं थी। उसने देखा कि उसके गद्दे के नीचे 500 और 1000 रूपये के कुछ पुराने नोट पड़े हैं। यह देखते ही उसने अपनी माँ को आवाज़ दी, जब शानू की माँ ने यह नज़ारा देखा तो वो फूट फूट कर रोने लगीं। रोते रोते उन्होंने कहा ”हे भगवान !! ये पैसे तो मैंने महीने के खर्चे में से बचाकर रखे थे ताकि इस साल अपने लिए झुमके ले सकूँ।”

धीरे धीरे परिवार के सारे लोग इकठ्ठा हो गए और सब मिलकर रोने लगे। पर शानू के पापा गुस्सा होकर बोले ”कहा था पिछले साल ही सब जगह चेक कर लो पर नहीं, अब इन पैसों का क्या करें। हज़ार बार पूछा , अरे ! पचास बार बैंक की लाइन में लगा एक बार और खड़ा हो जाता, पर नहीं। तुम लोगों से एक काम ढंग से नहीं होता है।” पापा की डांट सुनने के बाद सारा परिवार अपने काम में वापस जुट गया।



ऐसी अन्य ख़बरें