Saturday, 25th March, 2017
चलते चलते

सगाई के फोटो फेसबुक पर डालते ही आये निगेटिव कमेंट्स, अब शादी होने के चांस कम

27, Feb 2017 By Ritesh Sinha

इंदौर. वैसे तो फ़ेसबुक लोगों की जोड़ियाँ बनाने का काम करता है, लेकिन कभी-कभी इसकी वजह से जोड़ियाँ टूट भी जाती हैं। इंदौर के विशाल और दामिनी के साथ भी कुछ ऐसा ही कांड हुआ। कुछ दिनों पहले इन दोनों की मुलाक़ात एक दोस्त की शादी में हुई थी। जान-पहचान आगे बढ़ी तो शादी करने का फैसला कर लिया। अभी पिछले रविवार को ही एक पांच सितारा होटल में सगाई का कार्यक्रम रखा गया, जिसमें दोनों ओर से दोस्त और रिश्तेदार शामिल हुए। सगाई धूमधाम से संपन्न हुई, सगाई के बाद विशाल ने अपनी सगाई के फोटो फेसबुक पर डाल दिये। बस! यहीं से विशाल के बुरे दिन शुरू हो गए।

Engagement
इस फोटो पर भी नहीं आए कमेंट

जैसे ही उसने फोटो फेसबुक पर पोस्ट किए, रिश्तेदारों और दोस्तों ने कमेंट करना शुरू कर दिया। उसने सोचा था कि फेसबुक पर उसे कम से कम 1000 लाइक्स तो मिलेंगे ही मिलेंगे। लेकिन दुःख की बात ये कि लाइक्स तो आए ही नहीं, उल्टे सारे कमेंट्स निगेटिव ही आ रहे थे। कोई भी इन दोनों की जोड़ी को पसंद नहीं कर रहा था। सभी दोस्त “मेड फॉर ईच अदर” लिखने के बजाय कैमरे की क्वालिटी पर कमेंट्स कर रहे थे। कुछ लोग खाने-पीने के बारे में कमेंट्स चेप रहे थे। हद तो तब हो गई जब विशाल के दोस्त कमेंट बॉक्स में यूपी के चुनाव पर बहस करने लगे।

विशाल को ये देखकर बहुत बुरा लगा। उसे लगा था कि सभी उनकी तारीफ़ करेंगे लेकिन कोई भी उनकी सगाई के बारे में कमेंट्स ही नहीं कर रहा था। गुस्से में उसने एक कमेंट खुद डाल दिया- “तारीफ़ नहीं करनी है तो मत करो! लेकिन यूपी चुनाव के बारे में तो कम से कम यहाँ डिस्कस मत करो! जोंड़ी पसंद नहीं आई तो पहले बताना था ना। सगाई के दिन क्यों चुप थे? क्या नानवेज खाने के लिए ही आए थे सगाई में?” विशाल की इस धमकी के बाद दोस्तों ने कमेंट करना ही बंद कर दिया।

इस घटना के बाद उनकी शादी पर संकट के बादल छाने लगे हैं। फेकिंग न्यूज़ से बात करते हुए विशाल ने बताया कि “मुझे तो कुछ समझ नहीं आ रहा है। जब सगाई के फोटोज में इतने घटिया कमेंट्स आ रहे हैं तो मैं शादी का रिस्क नहीं ले सकता।” वहीँ, दामिनी भी अपने फोटो़ज़ के प्रदर्शन से खासी नाराज है और उसने भी विशाल को “सोचकर बताउंगी!” कह दिया है। विशेषज्ञों का मानना है कि “सोचकर बताऊंगी!” का मतलब “ना” ही होता है।



ऐसी अन्य ख़बरें