Friday, 24th November, 2017

चलते चलते

दिल्ली मेट्रो का किराया बढ़ा, स्टेशन्स दिखे ख़ाली

14, Oct 2017 By Guest Patrakar

दिल्ली. “कृपया पीली रेखा से दूर खड़े हों।” ये सूचना अब अमिताभ बच्चन के अलावा मेट्रो यात्रियों के कानों में भी चुभने लगी है। मंगलवार को दिल्ली मेट्रो ने किराए में इज़ाफ़ा किया है, जिसके बाद दिल्ली वाले या तो परेशान दिखे या मायूस। मगर एक सक्श ऐसे भी हैं जो इस बढ़े हुए किराए से ख़ुश है। जी नहीं हम कपिल मिश्रा की बात नहीं कर रहे, वो सक्श हैं DMRC के सर्वोच्च अधिकारी, राम भरोसे। राम भरोसे जी का मानना है कि किराए बढ़ाने से भीड़ कम होगी और स्टैम्पीड का ख़तरा भी कम होगा।

Metrocoachहैरत की बात यह है कि भारत और पाकिस्तान के मैच से भी ज़्यादा भीड़ इकठ्ठा करने वाला राजीव चौक मेट्रो स्टेशन मंगलवार को एक इंजीनियर के बटुए जैसा ख़ाली रहा। बढ़ते किराए को देखते हुए सभी यात्रीयो ने बस तथा ऑटो का रूख किया।

पिछले आठ सालों से दिल्ली मेट्रो में सफ़र कर रहे अशोक गुप्ता जी ने बताया मैं हर रोज़ लाजपत नगर से क़रोल बाघ अपनी दुकान का सफ़र करता हूँ, इस मंगलवार भी मैं हर रोज़ की तरह सफ़र कर रहा था। लेकिन मेट्रो इतनी ख़ाली थी के मुझे अटपटा सा लगने लगा, मुझे पिछले आठ सालों में खींच-खाँच, धक्का-मुक्की नहीं मिली। और मुझे बाहर से मसाज़ करवाना पड़ा। खचाखच भीड़ के कारण पसीने के बदबू की आदत लग चुकी थी, अब यह सब ना मिले तो दिल्ली मेट्रो का सफ़र अधूरा सा लगता है”।

मेट्रो कर्मचारी भीड़ कम होने से कुछ असमंजस में दिखाई दिए। राम भरोसे जी ने बताया कि “भीड़ कम होने से स्टैम्पीड का ख़तरा तो कम हुआ है मगर एक ख़तरा बढ़ गया है, वो ख़तरा ये है कि सब कुछ ख़ाली ख़ाली और साफ सुथरा है। लेकिन ख़ाली रहने का डर भी है। डर यह कहीं खाले रहने के कारण रॉबर्ट वाड्रा उसपे क़ब्ज़ा ना कर ले। लेकिन फिर भी फ़िल्हाल तो जो चल रहा है चलते रहना चाहिए”।



ऐसी अन्य ख़बरें