Monday, 27th February, 2017
चलते चलते

बॉस की खराब गाड़ी ठीक करने के बहाने कार के नीचे घंटों सोता रहा Employee

27, Aug 2016 By banneditqueen

मुम्बई.एस. एल.वी कम्पनी में काम करने वाले रमेश की हर रोज़ नींद पूरी नहीं होती थी। वह दिन में 1 10-20 कॉफी के कप पीने के बाद ही वह काम कर पाता था। काम का इतना बोझ ऊपर से 9 बजे ऑफिस पहुँचने के लिये सुबह 5 बजे उठना पड़ता था। कई बार तो वह खड़ा खड़ा ही लोकल ट्रेनों में सो जाता था। किस्मत रही तो सीट पर कभी कभी सोने को मिलता था। कई बार वह चुपके से लेडीज़ वॉशरूम में घुसकर झपकी ले लेता था।

ऐसे ही घंटो गाड़ी के नीचे सोता रहा रमेश
ऐसे ही घंटो गाड़ी के नीचे सोता रहा रमेश

एक दिन उसने एक अनोखी तरकीब सोची। उसने बॉस की गैरहाज़िरी में उनकी गाड़ी खराब दी। जब बॉस का गाड़ी पे ध्यान गया तो बॉस ने रमेश को मैकेनिक बुलाने भेजा। करीब आधे घंटे बाद रमेश ने बॉस को कॉल कर के कहा कि “सर, मेकैनिक आने को तैयार नहीं है बोल रहा है कल ही आपकी गाड़ी देख सकता है। मुझे गाड़ी ठीक करनी आती है अगर मेरा आज का काम किसी और को दे दें तो मैं ठीक कर दूँगा।” इसके बाद बॉस ने उसे गाड़ी ठीक करने की इजाज़त दे दी। रमेश खुशी खुशी गाड़ी के नीचे घुस गया और गाड़ी ठीक करने का नाटक करने लगा। कई घंटे बीत गया|

आते जाते लोगों के लगा कहीं रमेश बेहोश तो नहीं हो गया। धीरे धीरे भीड़ इकट्ठा होने लगी। लोगों ने रमेश को गाड़ी के नीचे से निकालकर हॉस्पिटल पहँचाया। हॉस्पिटल पहँचते ही जैसे ही रमेश की नींद खुली वह दंग रह गया। उसने नर्स से पूछा कि वह यहा कैसे पहुँचा तो नर्स ने पूरी कहानी बताई। तभी उसके बॉस भी वहा पहुँच गए और रमेश से माफी माँगने लगे कि उनकी वजह से वो बेहोश हो गया। बॉस ने रमेश को अगले दिन की छुट्टी दे दी। रमेश मन ही मन खुश हो गया। पर एक दम से बॉस का ध्यान इस बात पर गया कि रमेश के पास तो कोई टूल्स ही नहीं थे जिससे वो गाड़ी ठीक कर सके। उनके दिमाग की बत्ती जैसे ही जली उन्होंने रमेश की छुट्टी भी रद्द की और संडे को भी ऑफिस आने को कहा।



ऐसी अन्य ख़बरें