Thursday, 21st September, 2017

चलते चलते

ATM में भीड़ कम होने की वजह से चौकीदार दुखी, कहा 'नहीं मिल रहे टिप वाले पैसे'

26, Jan 2017 By banneditqueen

दिल्ली. नोटबंदी के बाद से हर आम आदमी की ज़िदगी में संकट आ गया था। लोग कैश कैसे बचाएँ और कितना कहाँ खर्चा करें इसी बात की जद्दोजहद में लगे थे। सौ रुपये की नोट की कीमत दो हज़ार से ज्यादा हो चुकी थी और दो हज़ार के नोट की कीमत कुछ भी नहीं। दो हज़ार का छुट्टा मिलना तो जैसे नामुमकिन सा था। सबसे ज्यादा दिक्कत तब होती जब लोग एटीएम पर पहुँचते और एटीएम खाली मिलता या फिर एटीएम में केवल दो हज़ार के नोट मिलते। ऐसे में भारत की जुगाड़ू जनता ने एक तरकीब निकाली।

पुराने दिन याद करके खुश होते रामप्यारे
पुराने दिन याद करके खुश होते रामप्यारे

लोगों ने एटीएम के बाहर तैनात चौकीदार जिस पर आज तक कभी किसी का थ्यान नहीं जाता था, उसे तवज्जो देनी शुरू कर दी। सभी लोग चौकीदार को 10-20-50 रुपये देकर यह बोलकर चले जाते कि “भैया जैसे ही बैंक वाले पैसा डाल के जाएँ, तुरंत हमें कॉल कर के बता देना।” पर जब से एटीएम के सामने भीड़ कम हुई है तब से चौकीदारों की एक्सट्रा कमाई बंद हो चुकी है।

यमुना नगर एटीएम में तैनात चौकीदार राम प्यारे ने फेकिंग न्यूज़ को बताया कि “जितनी कमाई मेरी एक दिन में हो जाती थी उतनी तो महीने भर में भी नहीं होती थी। अगर 50 लोगों ने भी 10 रुपये दिये तो समझ लो एक दिन का 500 रुपया। कई बार तो दिन में 1000-2000 भी कमा लेता था। पर अब तो जैसे सूखा पड़ गया है। पिछले महीने से एक भी आदमी ने 5 रुपया नहीं दिया। जो लोग कल तक आगे पीछे घूमते थे ‘भैया 100 के नोट आ गए क्या’ अब पलट कर देखते भी नहीं। एक समय था जब लोग केवल मशीन में गड़बड़ होने पर ही मुझे पूछते थे फिर एक समय आया जब लोग केवल मुझे ही पूछते थे। जाने कहाँ गए वो दिन… ” ऐसा बोलते हुए चौकीदार रुआँसा हो गया। साथ खड़े आदमी ने कहा “ये बहुत गोलीबाज़ है, इसको तीन बार पैसे दिये अाज तक नहीं बताया कि नोट आ गए या नहीं।”



ऐसी अन्य ख़बरें