Friday, 24th November, 2017

चलते चलते

मुमताज की याद में उसने ताजमहल बनवाया, मैंने उसकी याद में एंटी रोमियो दल बना दिया : योगी

26, Oct 2017 By Ritesh Sinha

आगरा. यूपी के मुख्मंत्री योगी आदित्यनाथ आज आगरा के दौरे पर हैं। जहाँ उन्होंने ताजमहल के आगे झाड़ू लगाकर सफाई अभियान की शुरुआत की है। इसी कार्यक्रम में झाड़ू लगाने के बाद वे पत्रकारों से बात कर रहे थे। पहले तो उन्होंने ताजमहल की जमकर तारीफ़ की, लेकिन शाहजहाँ के सवाल पर चुप्पी साध गए। बार-बार पूछे जाने पर उन्होंने सिर्फ इतना कहा कि, “देखिए! मुमताज की याद में उसने ताजमहल बनवाया, और मैंने शाहजहाँ की याद में एंटी रोमियो दल बना दिया।”-इतना कहकर वे वहां से चलते बने।

आगे आगे देखिए होता है क्या
आगे आगे देखिए होता है क्या

लेकिन उनके इस बयान से बवाल खड़ा हो गया है, कांग्रेस पार्टी और कई इतिहासकारों ने योगी से माफ़ी कि मांग की है। उनका कहना है कि योगी ने इशारों-इशारों में शाहजहाँ का अपमान किया है।

देश के जाने-माने इतिहासकार पतित कुमार ने योगी को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि, “योगी जी क्या साबित करना चाहते हैं? इतिहास में कहीं पर ये नहीं लिखा है कि शाहजहाँ इस टैप के आदमी थे। इनफैक्ट, उन्हें तो सीटी बजाना भी नहीं आता था! छेड़छाड़ तो दूर की बात है! ऊपर वाले की दया से, खुद लड़कियां हीं उन पर जान छिड़कती थीं! अब इतने सालों बाद योगी सरकार उनकी छवि को नुकसान पहुँचाने की कोशिश कर रही हैं!”

“देखिए! उस समय पीआर एजेंसी का कोई कांसेप्ट नहीं था, वरना इन लोगों को काउंटर करने के लिए शाहजहाँ जी पैसा छोड़कर जाते!”-पतित जी ने दुखी मन से आगे बताया।

जिस तरह पर्यावरण को बचाने वाले दिवाली के समय एक्टिव हो जाते हैं, वैसे ही यूपी के विधायक संगीत सोम भी ऐसे ही मुद्दों के समय एक्टिव रहते हैं, बाकि समय बेचारे किसी कोने में पड़े रहते हैं। उन्होंने अपने मुख्यमंत्री के बयान को सही ठहराते हुए कहा कि, “एक दिन हम शाहजहाँ के बारे में सोच रहे थे, उसी समय हमें एंटी रोमियो दल बनाने का आईडिया आया था, इसमें हमारी क्या गलती है?”

उधर, कांग्रेस पार्टी भी बहुत गुस्से में है। उनके स्थायी प्रवक्ता संजय झा का कहना है कि, “ताजमहल प्रेम की निशानी है, सात अजूबों में शामिल है! इसलिए हम ताजमहल का अपमान सहन नहीं करेंगे! योगीजी चंद वोटों के लिए ऐसे बयान देकर निकल जाते हैं, लेकिन हम इस बार उन्हें भागने नहीं देंगे! उन्हें माफ़ी मांगनी ही पड़ेगी!” अब देखना होगा कि योगी अपने बयान पर कायम रहते हैं, या माफ़ी मांगते हैं।”



ऐसी अन्य ख़बरें