Tuesday, 24th October, 2017

चलते चलते

वरुण गांधी ने दिये कांग्रेस में शामिल होने के संकेत, राहुल को बताया 'अत्यंत परिपक्व नेता'

27, Sep 2017 By बगुला भगत

नयी दिल्ली. कहते हैं कि राजनीति में कोई स्थायी मित्र या स्थायी शत्रु नहीं होता और भारतीय राजनीति में तो बिल्कुल भी नहीं होता! बीजेपी सांसद वरुण गांधी ने भी अपने चचेरे भाई राहुल गांधी को ‘परिपक्व नेता’ बताकर कुछ ऐसे ही संकेत दिये हैं। वरुण ने कल एक कार्यक्रम में विवादित बयान देते हुए कहा कि “राहुल जी अत्यंत परिपक्व नेता हैं और वे देश का भविष्य हैं।”

varun gandhi
राहुल गांधी को ‘परिपक्व’ बताते वरुण गांधी

उनके इस बयान के बाद कयास लगाये रहे हैं कि वो जल्दी ही कांग्रेस में शामिल हो सकते हैं। एपीपी न्यूज़ ने इसकी वजह बताते हुए कहा है कि राहुल को तो उनकी अपनी ही पार्टी के नेता मैच्योर नहीं मानते। ऐसे में वरुण का उन्हें परिपक्व बताना बिल्कुल साफ़ संकेत है कि वो कांग्रेस ज्वॉइन करने वाले हैं। इसीलिये वो जानबूझकर पार्टी लाइन से हटकर बयान दे रहे हैं और बीजेपी की फ़ज़ीहत करा रहे हैं।

ख़बरें तो यहाँ तक भी आ रही हैं कि वरुण ने कुछ दिन पहले राहुल गांधी के साथ एक सीक्रेट मीटिंग भी की है। जिसमें दोनों भाईयों के बीच ‘एक’ होने की संभावनाओं पर चर्चा की गयी। लेकिन अभी तक इस ख़बर की पुष्टि नहीं हो पाई है।

इसके उलट, कुछ चैनल वरुण के बयान का अर्थ यह निकाल रहे हैं कि उन्होंने राहुल को परिपक्व यानि ‘पका’ हुआ नेता बताया है मैच्यौर नहीं! जिसका मतलब है कि वो कहना चाह रहे हैं कि अब राहुल जी की उम्र ज़्यादा हो गयी है।

उधर, राजनीति के जानकारों का मानना है कि दोनों भाईयों की हालत फिलहाल कुछ ऐसी है कि ‘मुझे और नहीं, तुम्हें ठौर नहीं!’ वरुण को भी पचास साल में कोई मिनिस्ट्री नहीं मिलने वाली और राहुल को भी पचास सीट नहीं मिलने वाली! इसलिये इन दोनों के मिल जाने में ही भलाई है।

इस ख़बर पर कांग्रेस और बीजेपी के नेताओं की मिली-जुली प्रतिक्रिया आ रही है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने ख़ुशी जताते हुए कहा है कि “उन्हें अब अपनी घर वापसी कर लेनी चाहिये।” तो वहीं बीजेपी के कुछ नेताओं का कहना है कि “वरुण को ‘सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग’ टाइप का कोई मंत्रालय देकर शांत कर देना चाहिये, फिर वो चुपचाप पड़ा रहेगा। अगर ये दोनों भाई मिल गये तो हमारे लिये अच्छा नहीं होगा क्योंकि दो तो मिट्टी के भी बुरे होते हैं।”



ऐसी अन्य ख़बरें