Wednesday, 20th September, 2017

चलते चलते

विपक्ष ने की वोटरों की उँगलियों की जांच की मांग, कहा- जब भी बटन दबाया, बीजेपी के पक्ष में ही दबा

14, Mar 2017 By Pagla Ghoda

बनारस. यूपी के चुनावी नतीजों के बाद विपक्षी पार्टियों को रोज़ एक नयी साज़िश का पता चल रहा है। छायावती बाबू कुरकुरे, जो कि विपक्ष के धुआंधार नेता माने जाते हैं, ने अब चुनाव आयोग से सभी वोटरों की उँगलियों की जांच करवाने की मांग की है। छायावती जी को शक है कि उंगलियों की आड़ में इस इलेक्शन में कोई बहुत बड़ा खेल हुआ है।

finger
इन सब उंगलियों की होगी जांच

वोटरों की उँगलियों पर सवालिया निशान लगाते हुए छायावती बाबू गरजे, “अजी अल्पसंख्यक इलाकों में भी वोटरों की उँगलियों ने जब भी बटन दबाया तो बीजेपी के पक्ष में ही दबाया। ये तो बहुत बड़ी साज़िश है जी। हमारी मांग है कि चुनाव आयोग उत्तर प्रदेश के सभी वोटरों को नोटिस जारी करके उन्हें अपने सामने पेश होने को कहे और उन सबकी उँगलियों की पूरी मेडिकल, फिजिकल और टेक्नीकल सब तरह की जांच कराये।”

एक गिलास गर्म दूध पीकर और उसकी मलाई चाटकर छायावती बाबू आगे बोले, “और जिन-जिन वोटरों की उँगलियों में दोष पाया जाए, उन्हें सख्त से सख्त सजा दी जाए। इतना ही नहीं, जहाँ-जहाँ हमारी पार्टी हारी है वहां वहां दोबारा चुनाव करवाये जाएँ, तभी दूध का दूध और दारु का दारु होगा … मेरा मतलब पानी का पानी होगा।”

छायावती जी की इस मांग पर चुनाव आयोग की ओर से अभी आधिकारिक रूप से कोई टिप्पणी नहीं की गयी है। लेकिन कुछ अन्य विपक्षी नेताओं ने भी आरोप लगाए हैं कि कुछ वोटरों के नाखून बड़े होने के कारण उनसे गलत बटन दब रहे हैं। इसीलिए हर वोटिंग बूथ के पास कम से कम बीस नेल-कटर रखे जाएँ और जिन जिन वोटरों के नाखून बड़े हों उन्हें नाखून काटने के बाद ही वोटिंग करने दी जाए।

उधर, बीजेपी ने भी विपक्ष की इस मांग पर फिलहाल कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है क्योंकि पार्टी के ज़्यादातर नेता गोवा और मणिपुर में सरकार बनाने में बिजी हैं और बचे-खुचे यूपी-उत्तराखंड में सीएम ढूंढने में लगे हुए हैं।



ऐसी अन्य ख़बरें