Thursday, 22nd June, 2017
चलते चलते

कार पर 'लाल बत्ती' बैन होने के बाद बिहार के एक नेता ने खरीद ली एंबुलेंस

21, Apr 2017 By बगुला भगत

पटना. गाड़ियों पर लाल बत्ती बैन होने का एलान होने के बाद से ही यूपी-बिहार के नेताओं और अफ़सरों के घरों में मातम पसरा हुआ है। कुछ नेताओं के हलक से तो खाना भी नीचे नहीं उतर रहा है। लेकिन वो कहते हैं ना कि ‘तू डाल-डाल मैं पात-पात’! बिहार सरकार के एक मंत्री को जैसे ही पता चला कि एंबुलेंस और फ़ायर ब्रिगेड की गाड़ियों को लाल बत्ती लगाने की छूट मिली हुई है, तो उन्होंने तुरंत एंबुलेंस का ऑर्डर दे दिया। सूत्रों के मुताबिक, एंबुलेंस का ऑर्डर देने वालों में मुलायम और मायावती भी शामिल हैं।

Lal Batti3
एंबुलेंस पर लगेगी अब ये लाल बत्ती

फ़ेकिंग न्यूज़ से ख़ास बातचीत में बिहार के उस मंत्री ने कहा कि “जन्नलिस्ट बाबू! बताइये हमें कि जल बिन मछरिया जीती है भला कहीं! लाल बत्तिया के बिना तो हम भी मछरिया जैसे तड़पेंगे। इसलिये जैसे ही हमें पता चला कि एंबुलेंस पे लाल बत्ती अलाऊ है तो हम बिटुवा को भेज के तुंरतै दो एंबुलेंसवा बुक करा दिये। मर जायेंगे बाबू पर बत्ती नहीं छोड़ेंगे! हाँ!”

“लेकिन मोदी जी ख़ुद भी तो लाल बत्ती छोड़ रहे हैं, फिर आपको क्या प्रॉब्लम है?” यह सुनते ही वो उखड़ गये और फुफकारते हुए बोले- “मोदीया जी को का ज़रूरत है लाल बत्ती का! उन्हें देखकर तो सारा पब्लिक वैसे ही चिल्लाने लगता है- मोदी…मोदी! दिक़्क़त तो हमें है ना! हमें तो लाल बत्ती के बिना कुत्ता भी नहीं पूछेगा!”

फिर हमारे रिपोर्टर को अपने मोबाइल में एक दूसरे नेता का फोटू दिखाते हुए बोले कि “ई परमोदवा तो फ़ायर ब्रिगेड का गाड़ी ही बुक करा दिये हैं। कहते हैं कि सायरन और घंटी दोनों बजाएंगे और बत्ती भी जलायेंगे और जो हमारा चालान काटेगा…उसके चालान का बत्ती बना के…!” और फिर खीं-खीं करके हंसने लगे।

इस बीच, लाल बत्ती बैन होने की डेडलाइन यानि एक मई को पास आता देख कुछ नेता और अफ़सर ‘बत्ती’ की अपनी सारी हसरत पूरी कर रहे हैं। वे बिना बात के सायरन बजाते हुए इधर-उधर घूम रहे हैं। उन्होंने अपने बीवी-बच्चों को भी बोल दिया है कि “सिर्फ़ 10 दिन बचे हुए हैं। जितना घूमना है, घूम लो! फिर बाद में मत कहना कि लाल बत्ती की गाड़ी में नहीं घुमाया।



ऐसी अन्य ख़बरें