Wednesday, 22nd February, 2017
चलते चलते

दिल्ली के तांत्रिक ने 'आप' के 'झाड़ू' को अपना बता माँगा मुआवज़ा, केजरीवाल बोले अकाउंट में पैसे नहीं

28, Aug 2016 By Pagla Ghoda

दिल्ली: सीलमपुर इलाके के मशहूर तांत्रिक आगरबाज़ चंडेल ने आम आदमी पार्टी के चुनाव चिन्ह “झाड़ू” को अपने जादुई झाड़ू से प्रेरित बताकर “आप” पर उनसे बिना अनुमति लिए उनकी वस्तु का प्रयोग करने का इलज़ाम लगाया है। इसी के साथ उन्होंने “आप” से भारी रॉयल्टी अर्थात मुआवज़े की मांग की है नहीं तो उनकी चेतावनी है कि उन्हें न्याय के लिए अदालत के दरवाज़े खटखटाने होंगे।

Jhaadoo
इसी झाड़ू पर दावा कर रहे हैं आगरबाज़ चंडेल

फेकिंग न्यूज़ ने इस बारे में श्री चंडेल और उनके शागिर्द (असिस्टेंट) नटखट नन्हे से विस्तार में बात की-

पगला घोडा: नमस्कार।

आगरबाज़: शैतान शौक़ीन रहे।

नन्हे: शैतान शौक़ीन रहे।

पगला घोडा: तो आगरबाज़ जी आपका कहना है कि आप के चुनाव चिन्ह में जो झाड़ू है वो आपकी है।

आगरबाज़: सौ फ़ीसदी हमारी है, और आम आदमी पार्टी को चाहिए कि हमारी चीज़ को हमसे पूछ के इस्तेमाल करे। चाहे वो उसकी फोटो ही क्यों न हो।

पगला घोडा: तो आपने जब उनसे मुआवज़े की बात की तो उनकी तरफ से कोई जवाब आया?

आगरबाज़: जवाब? अजी उन्होंने तो मुझे परेशान कर दिया। केजरीवाल जी ने सबसे पहले मुझे एक खुला पत्र लिख दिया, कि भैया मेरे पास तो मुआवज़ा देने के लिए एक भी रुपया नहीं हैं, मेरे अकाउंट चेक कर लो।

पगला घोडा: फिर?

आगरबाज़: मैंने कहा अजी इतने बड़े आदमी हो कुछ तो होगा। तो उन्होंने मुझे अपने सभी एकाउंट्स की पासबुक की फोटोकॉपी भिजवा दीं।

पगला घोडा: ओह!

आगरबाज़: और यही नहीं, चूंकि मेरे फ़ोन नंबर भी उनके डेटाबेस में चले गए तो अब मुझे आम आदमी पार्टी से चंदे के कॉल आ रहे हैं। मैं उनसे मुआवज़ा मांग रहा था और अब वो उल्टे मुझसे चन्दा माँग रहे हैं।

नन्हे: वो कहते हैं न सोशल मीडिया पे “Irony Just killed itself” ये तो वही वाली बात हो गयी। क्यूं उस्ताद जी?

आगरबाज़: क्या अंगेरजी झाड़ रहा है तू?

नन्हे: जी वो कुछ नहीं।

आगरबाज़: नहीं तू ही करले बात, मैं चुप हो जाता हूँ। तू ही विद्वान् ज्ञानी है यहाँ।

नन्हे: सॉरी उस्ताद!

पगला घोडा: (हलकी खांसी) तो फिर अब आगे का क्या प्लान है आपका?

आगरबाज़: देखिये साहब हम प्रोफेशनल परफ़ॉर्मर हैं। हमारे झाड़ फूँक के सारे क्रिया कलाप हमारी इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी हैं। हमारे झाड़ू का एक बहुत ही स्पेसिफिक डिजाईन है, जिसके एक्सक्लूसिव राइट्स हमारे पास हैं। तो इसी लॉ के तहत हम मुआवज़े की मांग के लिए कोर्ट का दरवाज़ा खटखटायेंगे।

पगला घोडा: लेकिन केजरीवाल जी ने तो देश के सभी बड़े अखबारों में करोड़ों के इश्तेहार छपवाने का प्लान किया है, जिनमे लिखा होगा कि उनके अकाउंट्स में बिलकुल पैसे नहीं हैं।

नन्हे: वो तो जी facepalm moment हो जायेगा एक दम!

आगरबाज़: क्या बोला? क्या अंग्रेजी मारी? ये फ़ोन पे पूरा दिन यही सोशल मीडिया करता है न तू? उस दिन उस डरावने बंगले में जब हम भूत भगाने गए थे तो बीच बीच में खोपड़ी के साथ सेल्फी खींच के फेसबुक पे अपडेट कर रहा था न तू? आज से तेरा डाटा पैक बंद! घर का ब्रॉडबैंड भी कटवा देता हूँ मैं।

नन्हे: नहीं, नहीं I am sorry, I’ll be more serious about this tantra stuff, डाटा पैक कैंसिल मत करवाना प्लीज! प्लीज चाचा जी!

आगरबाज़: ये क्या चाचा चाचा लगा रखी है, चाचा मैं घर पे हूँ, औरों के सामने तो उस्ताद कहा करो!

नन्हे: जी उस्ताद!

पगला घोडा: (हलकी खांसी) जी अब मैं इजाज़त चाहूंगा। अगर आपने “आप” को कुछ कानूनी कागज़ भेजे हैं तो उसकी कुछ कॉपी मिलेंगी?

आगरबाज़: एक चिट्ठी भेजी थी उन्हें, जिसे उन्होंने अपने स्टाइल में जला दिया, और उसे जलाते हुए उसकी एक फोटो मुझे WhatsApp कर दी।

नन्हे: Kejriwal ji is logical, said no one ever .. lol!

आगरबाज़: (गुस्से से नन्हे की और देखते हुए) रिपोर्टर साहब आप ज़रा जल्दी चले जाएँ तो अच्छा होगा। मुझे एक बहुत ज़रूरी काम निपटाना है।

पगला घोडा: जी ज़रूर!



ऐसी अन्य ख़बरें