Sunday, 28th May, 2017
चलते चलते

"अगर हार गये तो कोई राहुल जी को ज़िम्मेदार नहीं बताएगा"- कांग्रेस ने सपा नेताओं को समझाया

09, Mar 2017 By बगुला भगत

लखनऊ. यूपी चुनाव का रिजल्ट आने से पहले कांग्रेस और सपा नेताओं की कल रात एक ज्वॉइंट वर्कशॉप हुई। इस वर्कशॉप में दोनों पार्टियों के नेताओं को ट्रेनिंग दी गयी कि हार के बाद कैसे बयान दिये जाने हैं। कपिल सिब्बल समेत कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं ने सपा वालों को समझाया कि हार होने पर कैसे ज़िम्मेदारी ली जाती है और जीतने पर आलाकमान को क्रेडिट कैसे दिया जाता है।

Rahul-Akhilesh3
“राहुल भैय्या को ज़िम्मेदार नहीं बताएगा कोई! समझ गये?”

“अचानक इस वर्कशॉप की क्या ज़रूरत पड़ गयी थी?” इस सवाल पर सिब्बल ने कहा कि “एक्चुअली, हमें डर है कि अगर हमारा गठबंधन हार गया तो सपा के बौड़म नेता कहीं राहुल जी को ज़िम्मेदार ना ठहराने लगें। उन्हें कोई एक्सपीरिएंस नहीं है ना! उनका कुछ पता नहीं, क्या उल्टा-सीधा बोल दें! जबकि हमारे तो एक-एक बंदे को पता है कि हार हमेशा उनकी ख़ुद की वजह से होती है।”

“और इस बार तो और भी भयंकर कांड होगा। बाप बेटे की टांग खींचेगा और बेटा बाप की! बीच में हमारे राहुल जी को भी लपेटेंगे।” -सिब्बल ने पसीना पोंछते हुए कहा। उनके पीछे बैठे सपा के एक नेता ने हमारे रिपोर्टर के कान में फुसफुसाते हुए कहा- “वैसे तो हमें जीत का 110% भरोसा है लेकिन राहुल गांधी की वजह से थोड़ा डर भी लग रहा है।”

इसके बाद, दोनों गुटों ने वर्कशॉप में ही एक-दूसरे के सर पर ठीकरा फोड़ना शुरु कर दिया। कांग्रेस का कहना था कि “ये बात पक्की है कि अगर हारे तो तुम लोगों के आपसी झगड़े की वजह से ही हारेंगे।” जबकि सपाईयों कह रहे थे कि “तुम्हारे राहुल गांधी ने आज तक कोई चुनाव जिताया हो तो बता दो!”

अंत में, सिब्बल ने वर्कशॉप छोड़कर जाने की धमकी देते हुए कहा- “एक बात दिमाग़ में बिठा लो। राहुल जी की वजह से हार कभी नहीं होती। हमारा 15 साल का एक्सपीरिएंस है।” इसके बाद सब शांत हो गये। लेकिन फिर भी कुछ पक्का कहा नहीं जा सकता कि गठबंधन हार गया तो सपा के नेता क्या करेंगे।



ऐसी अन्य ख़बरें