Wednesday, 13th December, 2017

चलते चलते

"अगर इसी तरह के बयान देते रहे तो एक दिन मुझे चाय बेचनी पड़ेगी" -राहुल ने मणिशंकर को लताड़ा

05, Dec 2017 By Ritesh Sinha

नयी दिल्ली. कल राहुल गाँधी ने पार्टी अध्यक्ष पद के लिए अपना नामांकन दाखिल कर दिया। इस मौके पर पानी फेरने के लिए कांग्रेस पार्टी के कई बड़बोले नेता बाहर से बुलवाए गए थे। इन्हीं में से एक हैं ‘चाय-वाला फेम’ मणिशंकर अय्यर! कल उन्होंने मीडिया को बयान देते हुए राहुल गाँधी की तुलना औरंगजेब से कर दी और कहा कि “बादशाह का औलाद ही गद्दी पर बैठता है, इसलिए राहुल गाँधी को अध्यक्ष बनने के लिए किसी चुनाव की जरूरत नहीं है! ये सबको पता है!” उनके इस बयान पर बवाल हो गया है।

rahul-mani-aiyar
“मेरी लंका लगाने का ठेका ले रखा है क्या?”

जब ये बात राहुल गाँधी को पता चली तो उन्होंने तुरंत मणि भाई को बुलावा भेज दिया। “जरा बुलाओ तो उस नमूने को! अब क्या हो गया? पता करना है मुझे! बुला के लाओ उसे!” -राहुल जी चिल्लाए। आनन-फानन में मणिशंकर अय्यर को फोन करके दस जनपथ बुलाया गया। जैसे ही वो दस जनपथ में दाखिल हुए राहुल गुस्से में बोले- “जब तक बैठने को ना कहा जाए, शराफत से खड़े रहो! ये पार्टी अध्यक्ष का बंगला है, तुम्हारे बाप का घर नहीं!” -कहते हुए उन्होंने मणि भाई को बैठने के लिए कुर्सी तक नहीं दी।

राहुल इतने गुस्से में थे कि एक अलग ही रूप में नज़र आ रहे थे। यहाँ तक कि जोश-जोश में उन्होंने ऊपर वाला डायलॉग भी सही-सही बोल दिया। लेकिन थोड़ी देर बाद ही अपने असली रूप में वापस आ गए।

“ये क्या कर दिया मणिभाई! ये क्या बोल दिया? पिछली बार लोकसभा चुनाव में तुमने ‘चायवाला’ बयान दिया था! क्या नतीजा हुआ, हमने देख लिया भैया! अब तो चुप रहो! आज तो तुम मुझे मुग़ल शासक बनाने पर तुले हुए हो! अगर ऐसा ही चलता रहा तो वो दिन दूर नहीं जब मुझे चाय बेचनी पड़ेगी! समझ में आ रहा है ना?”-राहुल ने कुर्ते की बाँह चढ़ाते हुए कहा।

जब वो मणिशंकर को धो रहे थे तो ‘पीडी’ जी भी वहीं मौजूद थे, उन्होंने अपनी पर्सनल आँखों से ये सब देख लिया। बाद में उन्होंने यह खबर फ़ेकिंग न्यूज़ को लीक कर दी। माना जा रहा है कि ‘पीडी’ मणि भाई से अपना कोई पुराना हिसाब चुकता करना चाहते थे, इसलिए उन्होंने यह ‘लीकबाज़ी’ की है।



ऐसी अन्य ख़बरें