Friday, 18th August, 2017

चलते चलते

कार्यकर्ता ने फाड़ी थी राहुल गाँधी के कुर्ते की जेब, भाषण की पर्ची ग़ायब करना चाहता था

19, Jan 2017 By banneditqueen

उत्तराखंड. दो दिन पहले कांग्रेस कार्यकर्ताओं की सभा में राहुल गाँधी ने जेब में हाथ डालकर फटा कुर्ता दिखाया था। हर बार की तरह राहुल गाँधी अपने भाषण में कुछ ना कुछ ऐसा बोल देते हैं कि वह हँसी का पात्र बन जाते हैं। राहुल गाँधी ने फटी जेब में हाथ डालने पर भी उसे मोदी से जोड़ दिया और कहा कि “मोदी का कुर्ता कभी भी ऐसे फटा नहीं होगा पर मुझे मेरे फटे कुर्ते से कोई दिक्कत नहीं।”

फटा कुर्ता गुम हुई पर्ची
फटा कुर्ता गुम हुई पर्ची

इस के बाद सबसे पहले बात ये उठी की जेब फटी तो कैसे। क्या कांग्रेस के उपाध्यक्ष के पास इतने भी पैसे नहीं कि वे एक अच्छा कुर्ता खरीद सकें? भाषण से लौटने से बाद राहुल गाँधी ने सबसे पहले अपने डिज़ाइनर को बुलाकर डाँटा “क्या तुमने एक बार भी चेक नहीं कि किया कि कुर्ता फटा हुआ है? पूरी सभी में बेइज्जती करवा दी मेरी। उस कुर्ते की पॉकेट में भाषण की पर्चा रखी हुई थी वहाँ जाकर सब कुछ भूल गया मैं तुम्हारे कारण।” डिज़ाइनर ने कहा “सर ऐसा हो ही नही सकता कि जेब फटी हो हो सकता है कहीं फँस कर फट गई हो।”

तभी तीन चार कांग्रेस कार्यकर्ता एक दूसरे कार्यकर्ता मनीष को पकड़ कर लाए। मनीष के पास से उन्हें भाषण की वही पर्ची मिली जिसे कि राहुल गाँधी ने अपनी जेब में रखी था। सभी कार्यकर्ता जोश में आकर मनीष के साथ मारपीट करने लगे। मनीष ने रोते हुए बताया “बाबा मैं तो आपकी मदद कर रहा था, पिछले कई समय से आप जो भाषण दे रहे हैं उसका सब लोग मज़ाक उड़ा रहे हैं इसीलिये मैनें सो़चा कि इस बार आपकी पर्ची ही गायब कर दूँ। आपको माला पहनाते वक्त मैंनें कैंची से आपकी जेब फाड़ दी और पर्ची निकाल दी।” हालांकि राहुल गाँधी को लगा कि एक तरह से अच्छा ही हुआ इसी बहाने वे मोदी की बुराई कर पाए।



ऐसी अन्य ख़बरें