Thursday, 14th December, 2017

चलते चलते

ब्रेकिंग न्यूज़ः राहुल गाँधी का पार्टी की कमान संभालने के बाद दिया जाने वाला भाषण लीक

07, Dec 2017 By diggyleaks

नयी दिल्ली. कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी का वो भाषण लीक हो गया है, जिसे वो अध्यक्ष चुने जाने के बाद पढ़ने वाले थे। विश्वस्त सूत्रों के अनुसार यह भाषण तब लीक हुआ जब वो अपने अभिनंदन कार्यक्रम के फुल ड्रेस रिहर्सल के दौरान एक बंद कमरे में उसे पढ़ रहे थे, वहीं से किसी ने इसे पार कर दिया। प्रस्तुत हैं उस भाषण के प्रमुख अंश:

Rahul Gandhi reading
अपना भाषण याद करते राहुल गांधी

“काँग्रेस पार्टी का अध्यक्ष चुने जाने पर मुझे बेहद खुशी है क्योंकि यह पहला चुनाव है, जिसे मैंने जीता है। बहुत लोग मुझसे पूछ रहे थे कि आप पार्टी में बड़ा रोल कब निभाओगे, तो आज उन सभी को सवाल मिल गया है।” [तालियाँ]

“काँग्रेस एक लोकतांत्रिक पार्टी है और इसमें सभी पद लोकतांत्रिक तरीके से भरे जाते हैं। मुझसे पहले मेरी दादी के पापा, उनके बाद मेरी दादी, उनके बाद मेरे पापा और उनके बाद मेरी मम्मी ने अध्यक्ष बनकर पार्टी की डेमोक्रेसी की रक्षा की है और अब यह काम मैं कर रहा हूँ।” [तालियाँ]

“मेरे परिवार ने बड़ी कुरबानियाँ दी हैं। मेरी दादी ने अपनी जान कुरबान कर दी, मेरे पापा ने भी देश के लिये अपनी जान कुर्बान कर दी, और अब मेरी मम्मी मेरे लिये पार्टी को कुर्बान कर रही हैं। हमारे लिये इस देश से बड़ा कुछ नहीं है और अगर अगली बार हम सत्ता में आए तो देश भी कुर्बान करने से नहीं हिचकेंगे। लोग दावा करते हैं कि देश की खातिर जान लुटा देंगे। हममें भी अपनी जान की खातिर देश लुटाने का जज्बा है!” [तालियाँ]

“विरोधी कहते हैं कि कांग्रेस में नेताओं की कमी है। लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं है और अब तो मैं अध्यक्ष बन गया हूँ। मैं एक ऐसी मशीन लाऊँगा, ऐसी मशीन लाऊँगा कि इधर से गधा डालोगे तो उधर से नेता निकलेगा!” [तालियाँ]

“मैंने चुनाव प्रचारों के दौरान पूरा देश घूमा है। देश की गरीबी देखी है। मैं गुजरात गया, वहाँ की गरीबी देखकर मेरे आँसुओं में आँखें आ गईं। वहाँ हर कोई गरीब है। गुजरात एशिया से भी बड़ा है लेकिन वहाँ किसी के पास गैस सिलेंडर तक नहीं है। किसी के पास इनवर्टर या जेनरेटर तक नहीं है।” [तालियाँ]

“गुजरात में मैं एक महिला के घर गया। उसके घर में चारों तरफ गरीबी ही गरीबी दिखी। उसका नौकर भी गरीब था, उसका धोबी भी गरीब था, उसका बावर्ची, उसकी कामवाली, उसका माली, उसका चौकीदार उसका ड्राइवर सब गरीब थे। ऐसी गरीबी देखी है कहीं?” (कार्यकर्ताओं की आवाज़: नहीं!)

“मुझसे गुजरात की गरीबी देखी नहीं गई। मैंने लोगों को समझाया कि आप लोग गाय पालिये। गाय गोबर देगी और आपके गोबर की खुशबू दूर-दूर तक फैलेगी। सोचिये, ओबामा जी की पत्नी अपना घर गोबर से लीप रही होंगी और कहेंगी कि अरे वाह! इतना खुशबूदार गोबर कहाँ का है? तो पता चलेगा कि गुजरात का है।” [तालियाँ]

“मैं जब यूपी गया तो वहाँ एक मजदूर ने बताया कि उसके घर में खाने को नहीं है, उसे काम ढूँढने दूर-दूर जाना पड़ता है। उसके शहर की हालत खस्ता हाल है और उसके इलाके में कारखाने बंद पड़े हैं और लोग भूखों मर रहे हैं। वह अपने एमपी को गालियाँ दे रहा था। मैंने पूछा, क्या नाम है आपके इलाके का, मैं अभी आपके एमपी की खबर लेता हूँ। तो उसने बताया- अमेठी! तब से मैं अमेठी के एमपी को ढूंढ रहा हूँ।” [तालियाँ]

“मैंने यूपी में बताया कि आप लोग आलू की फैक्टरी लगाओ, आलू से सोना बनाने की मशीन हम देंगे, और फिर सोना ही सोना हो जाएगा। सोने की चेन बनेगी और दुनिया भर में बिकेगी। ट्रंप जी अपनी भैंस बाँध रहे होंगे तो देखेंगे कि उसकी चेन बड़ी सुंदर है तो पता चलेगा कि मेड इन यूपी है।” [जोरदार तालियाँ]

“इस भाषण को यहीं रोकता हूँ, अब मेरा पेडिग्री खाने का मन कर रहा है। इसके आगे मालिक अपने मन से बोलेंगे। भौं…भौं!” [सन्नाटा]



ऐसी अन्य ख़बरें