Tuesday, 24th October, 2017

चलते चलते

'युवा' से प्रमोट होकर 'वरिष्ठ' नेता बने राहुल गांधी, अब 'भैय्या’ की जगह ‘अंकल' बोलेंगे कार्यकर्ता

09, Oct 2017 By बगुला भगत

नयी दिल्ली. कांग्रेस पार्टी के उपाध्यक्ष राहुल गांधी आज अचानक ‘वरिष्ठ’ नेता बन गए। पार्टी मुख्यालय पर आयोजित एक भव्य समारोह में राहुल को ‘युवा नेता’ से प्रमोट करके ‘वरिष्ठ नेता’ का दर्जा प्रदान कर दिया गया। राहुल को अपनी कैटेगरी में पाकर पार्टी के वरिष्ठ नेता खुशी से झूमने लगे, जबकि युवा कार्यकर्ता दहाड़ मारकर रोने लगे।

'वरिष्ठ' बनने के बाद कार्यकर्ताओं को आशीर्वाद देते राहुल
‘वरिष्ठ’ बनने के बाद कार्यकर्ताओं को आशीर्वाद देते राहुल

बेटे को वरिष्ठ नेता बनता देखकर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी भी भावुक हो उठीं। डबडबाई आंखों से राहुल के चेहरे को निहारते हुए उन्होंने कहा कि, “खांग्रेस पार्ठी के कारीयाकारथाओं की मेहनात और सामर्पन से आझ मैरा बैठा बैरा हो गइया हा। यहा संपरदायीक ताकातों के मूह पार जौरदार तामाचा है!”

वरिष्ठ नेता बनने पर राहुल को श्रीफल, शॉल और प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया। इस सम्मान से गदगद हुए राहुल ने देश के युवाओं को ढांढस बंधाते हुए कहा कि, “भैय्या, एक ना एक दिन तो मुझे ‘वरिष्ठ’ बनना ही था लेकिन फिकर मत करो! मैं हमेशा की तरह आगे भी आपके दिलों में बसा रहूंगा। बस इतना फरक आयेगा कि अब मैं बड़े लोगों की भी पहली पसंद बन जाऊंगा!”

इस अवसर पर मौजूद दिग्विजय सिंह ने कार्यकर्ताओं को सख्त हिदायत देते हुए कहा कि “राहुल जी को अब कोई ‘राहुल भैय्या’ नहीं कहेगा। आज से सब उन्हें ‘राहुल अंकल’ कहकर पुकारेंगे। हमें उम्मीद है कि राहुल जी अंकल के रूप में आगे भी हमारा मार्गदर्शन करते रहेंगे।”

बाद में, पत्रकारों को इस बदलाव की वजह बताते हुए दिग्गी राजा ने कहा कि, “हमने बहुत इंतज़ार किया कि राहुल जी बड़े लगने लगें लेकिन उनकी त्वचा से उनकी उम्र का पता ही नहीं चलता! शक्ल से व्यस्क तो क्या वो अभी भी बच्चे ही लगते हैं। इसलिए उन्हें वरिष्ठ बनाना जरूरी हो गया था।”

इसे और विस्तार से समझाते हुए उन्होंने कहा, “बड़े लोग हमें इसलिए वोट नहीं देते कि राहुल जी तो युवाओं के नेता हैं और युवा लोग राहुल जी के नाम से ऐसे बिदकते हैं, जैसे कोई सांड देख लिया हो!”

कार्यक्रम के समापन पर दिग्गी राजा ने राहुल की ‘युवा ब्रिगेड’ का नाम बदलकर ‘वरिष्ठ ब्रिगेड’ कर दिया और कार्यकर्ताओं को नये नारे की प्रैक्टिस भी कराई गई- “हमारा नेता कैसा हो, ‘राहुल अंकल’ जैसा हो!”



ऐसी अन्य ख़बरें