Sunday, 28th May, 2017
चलते चलते

शहर में हर जगह पोस्टर लगवाने वाले छज्जू भैय्या ने चुनाव लड़ने से किया इनकार, पब्लिक भड़की

10, Jan 2017 By Ritesh Sinha

कानपुर. अपने कानपुर के छज्जू भैया पिछले दस साल से जनता की सेवा करते आ रहे हैं। दिवाली, होली, ईद हो या फिर क्रिसमस, ऐसा कोई त्यौहार नहीं है, जब छज्जू भैया ने अपना बड़ा वाला पोस्टर सड़क किनारे ना लगाया हो। इन्ही पोस्टरों की वजह से आज कानपुर का बच्चा-बच्चा छज्जू भैया को जानता है। हर पोस्टर में छज्जू भैया जनता को बधाई देते हुए हाथ जोड़कर खड़े रहते हैं और जनता का आशीर्वाद मांगते हैं। अभी पिछले दिनों नए साल के मौके पर भी भैयाजी नहीं चूके और उन्होंने शहर के हर मोहल्ले में अपना पोस्टर ठोंकवा दिया। पूरा कानपुर जानता था कि छज्जू भैया चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहे हैं इसीलिए हर समय लोगों को बधाई देते रहते हैं। जब कुछ दिनों पहले उन्होंने नयी स्कॉर्पियो खरीदी तो लोगों को पक्का यकीन हो गया कि छज्जू भैया ही हमारे नए विधायक बनेंगे।

Poster
छज्जू भैय्या के दोस्त हसीब का पोस्टर

इसी बीच यूपी में चुनाव का एलान हो गया और सारे पोस्टर-होर्डिंग वाले नेता टिकट की जुगाड़ में लग गए लेकिन छज्जू भैया पर इसका कोई असर नहीं हुआ। ना ही छज्जू भैया टिकट की जुगाड़ में लखनऊ के चक्कर लगा रहे थे और ना ही कहीं आ जा रहे थे। यह देखकर लोगों को किसी अनहोनी की आशंका सताने लगी। एक दिन मोहल्ले के लोगों ने छज्जू भैया से पूछ ही लिया- “क्यों भैया! लखनऊ नहीं जा रहे हो! टिकट का जुगाड़ फोन से ही हो गया क्या?” इतना सुनते ही छज्जू भैया ने कहा- “नहीं गुप्ता जी! मेरा चुनाव लड़ने का बिल्कुल भी मन नहीं है, ना मुझे किसी पार्टी का टिकट चाहिए।”

इतना सुनते ही वहां मौजूद सभी लोग आग बबूला हो गए और छज्जू भैया पर पिल पड़े। छज्जू भैया पर जमकर हाथ साफ़ करने के बाद गुप्ता जी गुस्से में बोले-“जब चुनाव नहीं लड़ना था तो अपने पोस्टरों से पूरा शहर क्यों पाट रक्खा है बे?” छज्जू भैय्या ने कराहते हुए कहा- “मुझे अच्छा लगता है बधाई देना इसीलिए…” वो अपनी बात पूरी भी नहीं कर पाये थे कि लोगों ने सेकंड इनिंग शुरु कर दी और छज्जू भैया का भुरता बना दिया।

थोड़ी देर बाद वहां पुलिस भी पहुंच गयी और छज्जू भैया को गिरफ्तार कर लिया। “अरे मुझे क्यों गिरफ्तार कर रहे हो! मेरी तो पिटाई हुई है।” छज्जू भैया ने हाथ जोड़ते हुए कहा। “फिर से हाथ जोड़ेगा तू! जो लोग चौराहे पर अपना पोस्टर लगवाते हैं वे चुनाव जरूर लड़ते हैं और तू कहता है कि मैं चुनाव नहीं लडूंगा। चल थाने!” कहते हुए दरोगा जी ने छज्जू भैया को जीप में ठूंस दिया।



ऐसी अन्य ख़बरें