Wednesday, 22nd November, 2017

चलते चलते

पतंजलि ने निकाला चुनावी हार पचाने वाला चूरन, केजरीवाल ने दिया एक पेटी का ऑर्डर

17, Mar 2017 By bapuji

हरिद्वार. संत हमेशा समाज के भले की सोचता है और वो किसी से भेदभाव नही करता। चाहे राजा हो या प्रजा, संत को सबके दुख-दर्द की चिंता रहती है। योग गुरु बाबा रामदेव ने कल इसकी मिसाल भी पेश कर दी। बाबा जी की पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड ने एक ऐसी जड़ी-बूटी वाला चूरन बाज़ार मे उतार दिया, जिसके नियमित सेवन से चुनावों में खायी करारी से करारी हार भी आसानी से पच जाती है और ज़मानत ज़ब्त होने के बाद भी मनुष्य चैन से रहता है। अब तक हुए प्रयोगों में इस चूरन का कोई साइड-इफेक्ट नही पाया गया है।

Baba Ramdev18
‘हार बाहर कर’ चूरन को लॉन्च करते बाबा रामदेव

बाबा जी ने खचाखच भरी एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में पत्रकारों को इस चूरन की विशेषता बताते हुए कहा कि “भारत देश मे चुनाव तो हमेशा होते ही रहते है और हार-जीत भी लगी ही रहती है लेकिन कभी-कभी हार जबर होने की वजह से कुछ लोगों को उसे पचाने में परेशानी हो जाती है। सीने में जलन, पेट में मरोड़ और अपच होने की वजह से मनुष्य अजीबो-ग़रीब बयान देने लगता है। हमारे इस ‘हार बाहर कर’ चूरन के सेवन से कड़ी से कड़ी हार भी पच कर पेट से बाहर निकल जाती है और मनुष्य नये जोश से अगले चुनाव की तैयारी में जुट जाता है।

बाबा ने बताया कि उन्हें इस जड़ी-बूटी का विचार पुरानी रहस्य भरी आयुर्वेदिक किताबों से मिला और इसके लिए उन्होंने पूरे भारत के जंगलों मे चुनिंदा और ख़ास जड़ी-बूटियो को ढूँढा और खुद कूट-कूट कर इसे बनाया है। उन्होंने कहा कि इसका परीक्षण उन्होंने बिहार विधानसभा चुनाव मे हार के बाद बीजेपी के कुछ नेताओं पर किया था, जहाँ दूसरे नेता ऊल-जुलूल बयान देते रहे और दूसरों को दोषी ठहराते रहे वहीं, चूरन खाने वाले नेता हार को भूलकर यूपी के चुनाव की तैयारी मे लग गये।

चूरन की सफलता को देखते हुए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी चूरन के एक बड़े कनस्तर का ऑर्डर किया है। बाबा को पूरी उम्मीद है कि इस जालिम चूरन के प्रयोग के बाद श्री केजरीवाल ईवीएम मशीनों में गड़बड़ी वाली बात को भूलकर नये सिरे से एमसीडी के चुनावों की तैयारी में जुट जायेंगे और अवश्य जीत हासिल करेंगे।



ऐसी अन्य ख़बरें