Sunday, 19th November, 2017

चलते चलते

"अगले चुनाव तक अब कोई मोदी जी को उल्टा-सीधा नहीं बोलेगा" -नीतीश की अपने नेताओं को हिदायत

28, Jul 2017 By बगुला भगत

पटना. लालू यादव से अलग होकर नीतीश कुमार फिर से एनडीए में पहुँच गये हैं और एक बार फिर मुख्यमंत्री बन गये हैं। मुख्यमंत्री बनते ही उन्होंने सबसे पहला काम किया अपनी पार्टी के नेताओं को एक ज़रूरी बात समझाने का! नीतीश ने अपने नेताओं को सख़्त हिदायत दे दी है कि आज के बाद वे प्रधानमंत्री मोदी के बारे में उल्टी-सीधी बातें बोलना बंद कर दें!

Nitish Kumar4
नेताओं को सख़्त हिदायत देते नीतीश बाबू

राजभवन में सीएम पद की शपथ लेते ही नीतीश ने अपने सारे विधायकों को एक कमरे में बुलाया और दरवाज़ा बंद कर लिया। जब सारे विधायक बैठ गये तो नीतीश उन्हें समझाते हुए बोले- “ध्यान से सुनो सब लोग! आज से तुम में से कोई भी मोदी जी के लिये अपशब्द नहीं बोलेगा। यानि आज से लालू फ़ैमिली पे अटैक शुरु और मोदी जी पे हमला बंद!”

यह सुनते ही कई विधायक उत्तेजित हो गये। एक विधायक खड़ा होते हुए बोला कि “पहले हमें लालू को ‘लालू जी लालू जी’ बोलने की प्रैक्टिस कराई और जब इतनी मेहनत के बाद ट्यूनिंग सेट हो गयी तो अब कह रहे हैं कि मोदी को ‘मोदी जी मोदी जी’ बोलना शुरु करें। ये सब क्या है?”

“हाँ! अचानक से कैसे चालू कर दें? थोड़ा टाइम तो लगेगा ना एडजस्ट होने में!” -दूसरे विधायक ने उसकी हाँ में हाँ मिलाते हुए कहा। यह सुनते ही नीतीश मेज़ पर मुक्का मारते हुए बोले कि “आज का मतलब आज! देख नहीं रहे हो लालू की फ़ैमिली का क्या हाल कर रखा है उन्होंने!”

“और इनटॉलरेंस…” -तीसरे विधायक ने मुँह खोला ही था कि नीतीश उसके मुँह पे उंगली रखते हुए बोले- “श्श्श्श…! तीन साल तक इनटॉलरेंस ना निकले किसी के मुँह से!”

“और सांप्रदायिकता?” -चौथे विधायक ने पूछा। यह सुनते ही नीतीश बाबू ने इशारा करते हुए उससे कहा कि “सांप्रदायिकता की बत्ती बना के डाल लो अगले चुनाव तक! उसके बाद जब चाहे यूज करना उसका।” फिर सबकी तरफ़ उंगली उठाते हुए बोले- “समझ गये सब लोग?” सभी ने एक सुर में कहा- “जी सर!” इसके बाद नीतीश बाबू ने दरवाज़ा खोल दिया और सब लंच पेलने चले गये।



ऐसी अन्य ख़बरें