Monday, 27th February, 2017
चलते चलते

खुलासाः नवाज़ शरीफ़ ने अपनी हार्ट सर्जरी से पहले प्रधानमंत्री मोदी को फ़ोन क्यों किया

31, May 2016 By बगुला भगत

इस्लामाबाद/नयी दिल्ली. नवाज़ शरीफ़ ने अपनी हार्ट सर्जरी से पहले अपने किसी रिश्तेदार या फ़ैमिली मेंबर से बात करने के बजाय प्रधानमंत्री मोदी को फ़ोन क्यों किया और दोनों के बीच में क्या बात हुई, इसका खुलासा हो गया है। फ़ेकिंग न्यूज़ ने दोनों की वो पूरी बातचीत रिकॉर्ड कर ली थी, ये है उसका पूरा ब्यौरा-

Modi-Nawaz
“मोदी साब…सलमा की तरह हमारा भी ध्यान रखना”

नवाज़ः हैलो…हैलो…मोदी साब…सलाम वालेकुम! नमोः वालेकुम…नमस्ते शरीफ़ भाई। इतनी सुबह-सुबह…सब ठीक तो है ना? नवाज़ः मोदी साब…   (अचानक रोने लगते हैं) नमोः अरे…अरे…क्या हुआ शरीफ़ भाई! आप तो देहाती औरत की तरह रो रहे हो। नवाज़ः मोदी साब…मेरा…फ्फ…फ्फ…फ्फ!  (और ज़ोर से रोने लगते हैं) नमोः उस ताहिर शाह ने फिर कोई नया गाना गा दिया क्या? नवाज़ः नहीं मोदी साब! वो बात नहीं है! नमोः तो हमारे सिद्धू की कमेंट्री सुन ली क्या? नवाज़ः ख़ुदा के करम से हमारे यहां सेट मैक्स नहीं आता मोदी साब! नमोः तो फिर? पनामा पेपर की तीसरी लिस्ट आ गयी क्या? नवाज़ः वो बात भी नहीं है… नमोः तो आर्मी ने टेक ओवर कर लिया क्या? नवाज़ः ऐसा नहीं है…! नमोः अमरीका अपने पैसे वापस मांग रहा है क्या? नवाज़ः नहीं मोदी साब…नहीं! नमोः तो फिर क्या हो गया…क्यूं रो रहे हो? नवाज़ः मोदी साब…मेरा दिल…फ्फ…फ्फ्फ! नमोः क्या हुआ आपके दिल को…भाई मियाँ? नवाज़ः मेरे दिल का ऑपरेशन होना है… नमोः एक ऑपरेसन से डर गये! नवाज़ः ऑपरेशन से नहीं…लंदन जाने से लग रहा है। नमोः प्लेन में बैठने से डर रहे हो…हो…हो…हो… (ज़ोर ज़ोर से हंसने लगते हैं) नवाज़ः प्लेन में तो मैं आपसे पहले से बैठ रहा हूं… नमोः तो फिर किस बात से डर रहे हो? नवाज़ः मोदी साब…अगर मैं एक बार इधर से निकला ना…तो भाई लोग वापस लैंड करने देंगे…इसकी कोई गारंटी नहीं है। नमोः तो फिर मत जाओ…सर्जरी पाकिस्तान में ही करवा लो। नवाज़ः नहीं…नहीं…मोदी साब! यहां तो पथरी निकलवाने में भी जान जाने का रिस्क रहता है। नमोः तो इधर आ जाते… मैं त्रेहन को बोलकर पैसे कम करवा देता। नवाज़ः पैसे की टेंशन नहीं है मोदी साब! नमोः तो किस बात की टेंशन है? बोलो ना! नवाज़ः मैं कह रहा था कि जैसे उस दिन आप बिना बताये हमारे यहां पहुंच गये थे…अगर मैं भी… नमोः मतलब आप हमारे यहां…? नमोः आपने अदनान सामी और सलमा आग़ा को भी तो… नमोः उनकी बात अलग है। वे तो नाचने-गाने वाले हैं… नवाज़ः बस हमें भी ऐसा ही समझ लो… नमो (सोचते हुए): इसके बारे में तो मुझे नागपुर बात करनी पड़ेगी… नवाज़ः प्लीज़ मोदी साब! मैं ज़्यादा दिन नहीं रुकूंगा… नमोः ओके…ओके! लेकिन पहले ऑपरेशन तो कराओ…उसके बाद देखते हैं…ठीक है? अब मैं रखता हूं… नवाज़ः हैलो…हैलो…मोदी साब…हैलो…

(फ़ोन रख देते हैं और बड़बड़ाते हैं- “जिसे देखो…मुंह उठाये चला आ रहा है…”)



ऐसी अन्य ख़बरें