Sunday, 19th November, 2017

चलते चलते

मायावती ने दी इस्तीफे की धमकी, कहा ''दलितों की राजनीति केवल मैं ही कर सकती हूँ''

18, Jul 2017 By banneditqueen

लखनऊ. ब्राह्मणों और राजपूतों की पार्टी माने जाने वाली भाजपा ने एक बार फिर से इस धारणा को गलत साबित कर दिया है। भाजपा सरकार ने पहले भी देश को मुसलमान राष्ट्रपति दिया था, 2014 में ओबीसी प्रधानमंत्री और अब दलित राष्ट्रपति के रूप में राम नाथ कोविंद का नामांकन किया। जब भाजपा सरकार ने रामनाथ कोविंद का नाम राष्ट्रपति के लिए मनोनीत किया तब विपक्षी नेताओं ने भाजपा पर दलितों की राजनीति करने का आरोप लगाया।

mayawati1 mayawati1

मेरे पास एक भी सीट नहीं ऐसा बताती मायावती
मेरे पास एक भी सीट नहीं ऐसा बताती मायावती

आज मायावती ने बहस के दौरान  राज्यसभा से इस्तीफ़ा देने की धमकी दे दी। उनका कहना था कि राज्यसभा में बोलने नहीं दिया जा रहा इसी कारण से वह इस्तीफ़ा देने का मन बना रही हैं। इस पर कई लोगों ने पर्तिक्रिया दी कि ”मायावती जी को देर नहीं करनी चाहिए क्योंकि वैसे भी उनकी पार्टी ने हाल ही के चुनावों में एक भी सीट नहीं जीती। उनका राज्यसभा में दुबारा वापसी करना दिन में सपने देखने जैसा है।” वहीं मुख्तार अंसारी ने कहा कि ”संसद में ना बोलने देना लोकतंत्र की हत्या है।”

संसद से बाहर निकलने के बाद मायावती ने मीडिया से बात करने से इंकार कर दिया। सूत्रों के मुताबिक़ मायावती इस बात से नाराज़ चल रही हैं कि भाजपा दलित कार्ड खेल रही है। यह भी पता चला कि मायावती इस बात से खासी नाराज़ हैं कि इतने साल दलितों की राजनीति करने के बाद भी आज उनके पास एक भी सीट नहीं हैं। इन सब से गुस्साई मायावती ने यह भी कहा कि ”दलितों की राजनीति करना केवल मेरा अधिकार है और किसी पार्टी का नहीं।”



ऐसी अन्य ख़बरें