Sunday, 20th August, 2017

चलते चलते

सिद्धू के 'आप' में शामिल होने की ख़बर से घबराकर कुमार विश्वास लिख रहे हैं नयी कविताएँ

19, Jul 2016 By banneditqueen

नयी दिल्ली. ”कोई दीवाना कहता है, कोई पागल समझता है” ये पंक्तियाँ सुनते ही एक ही नाम ज़ेहन में आता है और वो है कविवर कुमार विश्वास! कल शाम जब नवजोत सिंह सिद्धू के राज्यसभा सीट से इस्तीफा देकर आम आदमी पार्टी में शामिल होने की अटकलें लगायी जाने लगीं, तभी कवि विश्वास आप के मुख्यालय से नदारद हो गए। काफी देर तक उनकी तलाश पार्टी मुख्यालय से लेकर आसपास के मयखानों में की गई। काफी घंटों तक ढूंढने के बाद भी जब वो नहीं मिले तो उनके गुमशुदा होने की रिपोर्ट दर्ज कराई गई।

Kumar
एक नया शेर याद करते डॉ. कुमार विश्वास

धीरे धीरे यह ख़बर देश के सभी न्यूज़ चैनलों पर प्रसारित होने लगी। तभी किसी ने पुलिस को खबर कर के कुमार विश्वास की लोकेशन बताई। जब पुलिस उस लोकेशन पर पहुंची तो देखा कि वो एक पुरानी लाइब्रेरी है, जहाँ कुमार विश्वास कई सारी पुरानी किताबों से घिरे हुए बैठे हैं।

वे सारी किताबें शेरो शायरी और कविताओं की थी, जिनके पन्ने पलट पलटकर कुमार विशवास अपनी डायरी में कुछ नोट कर रहे थे। पुस्तकालय चलाने वाले व्यक्ति ने बताया कि “ये पिछले 5 घंटे से किताबें छान रहे हैं। पता नहीं क्या लिख रहे हैं!” पुलिस के पूछने पर कुमार विश्वास ने बताया कि “इतने सालों से मैं बस ‘कोई दीवाना कहता है’ सुना रहा हूं और आआपा के मेरे चेले उस पर तालियाँ बजा रहे हैं पर अब सिद्धू के आने के बाद मेरी इस सदाबहार कविता को कोई भाव नहीं देगा। इसलिए मैं यहाँ कुछ नयी शेरो-शायरी और कविताएँ नोट करने आया हूँ ताकि वक्त आने पर मैं उन्हें सुनाकर ठोको ताली बोल सकूँ।”

विश्वास जी के मिलने की ख़बर सुनकर ऩवजोत सिद्धू ने एक शायरी टाइप मुहावरा ट्वीट किया, जिसका मतलब हमें अभी समझ में नहीं आया है। इस बीच, हमें यह ख़बर मिली है कि अगर सिद्धू आआपा में शामिल होकर पंजाब के सीएम बन गये तो कुमार विश्वास कपिल शर्मा के कॉमेडी शो में जज की कुर्सी सम्भालेंगे।



ऐसी अन्य ख़बरें