Thursday, 27th April, 2017
चलते चलते

योगी को लेकर केजरीवाल की तरफ से कोई टिप्पणी ना होने पर जोक बाज़ार में कच्चे माल की कमी

28, Mar 2017 By banneditqueen

दिल्ली. बीते विधानसभा चुनावों में बेहतरीन प्रदर्शन करने के बाद अरविंद केजरीवाल की तरफ से कोई भी विवादित बयान नहीं आया। केजरीवाल जी का रिकॉर्ड रहा है कि चाहे मुद्दे का सम्बंध उनसे हो या ना हो उनकी तरफ से बयान ना आए ऐसा नहीं हो सकता। पिछले महीने ही हमने ”बहुत दिनों से नहीं की केजरीवाल ने कोई कन्ट्रोवर्सी, पूरा देश चिंतित” नामक लेख में ज़िक्र किया था कि किस तरह पूरे देश में केजरीवाल की चुप्पी से पूरे देश में हड़कम्प मचा हुआ है। इस खबर के बाद हमें उम्मीद थी कि केजरीवाल शायद कोई बयान दे दें।

आखिर इस चुप्पी का राज़ क्या है
आखिर इस चुप्पी का राज़ क्या है

सबसे बड़ा शॉक तो तब लगा जब मोदी जी द्वारा योगी को उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री बनाया गया पर इस पर भी केजरीवाल की तरफ से कोई टिप्पणी नहीं आई, और ना ही एंटी रोमियो स्क्वॉड और बूचड़खाने बंद करने पर। इसके चलते सबसे ज्यादा असर ट्विटर फेसबुक पर जोक बनाने वालों पर पड़ा है। कई पे़जेस जिनकी रोज़ी रोटी केजरीवाल जी के बयानों पर टिकी थी वह अब मुसीबत में हैं। जहाँ एक तरफ अवैध बूचड़खानों पर बैन के चलते मार्केट में माँस की कमी हो गई वहीं केजरीवाल की चुप्पी के चलते जोक मार्केट में कच्चे माल की कमी हो गई है। ऐसा ही एक पेज चलाने वाले फेसबुक यूज़र चुन्नू से फेकिंग न्यू़ज़ पत्रकार ने बातचीत करने की कोशिश की। केजरीवाल जी की चुप्पी के चलते वह डिप्रेशन में जा पहुँचा था। फेकिंग न्यू़ज़ पत्रकार ने केजरीवाल के पुराने वीडियोज़ दिखा कर उसे बात करने के लिए राजी किया।

चुन्नू ने रोते हुए बताया कि ”क्या बताएँ साहब, सोचा था पूरी लाइफ केजरीवाल जी पर जोक बना बना कर निकाल लेंगे। उनके ऊपर फाल्तू सा आर्टिकल भी लिखो तो भी चल जाता था। इतने हिट्स मिलते थे कि एड रेवन्यू भी अच्छा खासा होता था। पिछले चार महीनों से सूखा पड़ा हुआ है। इत्ता लाइफ खराब हो गया मेरा इत्ता लाइफ खराब हो गया।” यही हाल कई और पेजेस चलाने वालों का भी है, सभी इसी इंतज़ार में हैं कि इस सूखे में केजरीवाल के शब्दों की बारिश कब होगी।



ऐसी अन्य ख़बरें