Tuesday, 17th January, 2017
चलते चलते

केजरीवाल ने कबूला ''मैं खुश हूँ कि नोटबंदी के चलते स्मॉग से लोगों का ध्यान हटा ''

28, Nov 2016 By banneditqueen

दिल्ली. नोटबंदी का ऐलान होने के पहले पूरा देश दिल्ली से स्मॉग की चर्चा कर रहा था। स्मॉग के चलते केजरीवाल सरकार पर तुरंत कड़े कदम उठाने का खासा दबाव था। न्यूज़ चैनलों पर हेल्थ एक्सपर्ट्स अलग अलग आंकड़ो के साथ जनता को डराने में लगे हुए थे। वहीं दिल्ली सरकार सब पे आरोप लगाने के बाद मन मार के सख्त कदम उठाने के लिये आदेश दे रही थी। जैसे जैसे दिन बीत रहे थे स्मॉग का असर भी कम हो रहा था। फिर अचानक ही नोटबंदी का ऐलान हुआ और केजरीवाल के साथ साथ पूरी दुनिया की ज़ुबान पर एक ही बात थी ‘नोटबंदी’।

पहली बार मोदी जी से खुश केजरीवाल
पहली बार मोदी जी से खुश केजरीवाल

केजरीवाल नोट बंद करने के फैसले से खासे नाराज़ हुए। लगभग रोज़ ही उन्होनें इस पर ट्वीट किया। उनका कहना था कि नोट बंद करने के फैसले से कैसे भ्रष्टाचार खत्म होगा। पैसों के चक्कर में जनता भी अपनी सेहत की चिंता भूल गई और न्यूज चैनल भी। सभी लोग इस बात से हैरान थे कि केजरीवाल ने अपने राजनैतिक करियर की शुरुआत भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई कर के की थी और जब आखिरकार इस के खिलाफ कुछ कदम उठाए जा रहे हैं तो वह इसके खिलाफ क्यों हैं।

केजरीवाल जी ने एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में बताया कि “देखिये मोदी जी ने आज तक जो भी काम किया वह इसी बात को ध्यान में रखकर किया है कि मुझे सबसे ज्यादा परेशानी हो। जब नोटबंदी का फैसला हुआ तब मेरे पास सिर्फ वाराणसी वाला एक 500 का नोट था जिसे मैं हमेशा अपनी जेब में लिये घूमता हूँ। मैं खुश हो गया कि चलो एक और मुद्दा मिला मोदी जी को घेरने का। हालाँकि मुझे बाद में एहसास हुआ कि नोटबंदी के चलते स्मॉग और दिल्ली के पाल्यूशन का मुद्दा बैकसीट पर चला गया।” इतना बोलने के बाद केजरीवाल अपना लैपटॉप खोल अफवाहों को रिट्वीट करने में व्यस्त हो गए।पार्टी के एक कार्यकर्ता का कहना था कि “वैसे ही केजरीवाल य़ू टर्न लेने के लिये बदनाम हैं इसीलिये इस बार यू टर्न नहीं लिया।”



ऐसी अन्य ख़बरें