Wednesday, 23rd August, 2017

चलते चलते

राजस्थान से तीन ऊँट, असम से चार गैंडे और गुजरात के पांच शेर भी होंगे बीजेपी में शामिल

19, Jan 2017 By Ritesh Sinha

नयी दिल्ली. आजकल भाजपा में शामिल होने वाले नेताओं की संख्या तेज़ी से बढ़ गई है। कम TRP वाले घाघ नेता से लेकर ज्यादा TRP वाले लुच्चे-लफ़ंगे नेता तक सब भाजपा में शामिल हो रहे हैं। ऐसे सेलेब्रिटी भी भाजपा ऑफिस के आसपास टहलते हुए पाये गये हैं, जिन्हें आजकल कोई नहीं पूछता। बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ‘सबका साथ सबका विकास’ का नारा लगाते हुए हर किसी को पार्टी में घुसा दे रहे हैं।

Camel1
बीजेपी के ऑफ़िस का पता पूछते शोभारानी और उनके साथी

इन दल-बदलू नेताओं की देखा-देखी कई जानवर भी अब बीजेपी में आने का प्लान बना रहे हैं। खबर आई है कि राजस्थान से तीन ऊंट, असम से चार गैंडे और गुजरात के पांच शेरों ने भी भाजपा में शामिल होने का ऐलान कर दिया है। इन सबने अमित शाह के पास अर्जी भेज दी है। हालाँकि, इन जानवरों को अभी तक हरी झंडी नहीं दिखाई है लेकिन शाह जी के ट्रैक रिकॉर्ड को देखते इन जानवरों की एंट्री भी बीजेपी में तय मानी जा रही है।

बीकानेर की प्रसिद्ध ऊँटनी शोभारानी ने अपनी गर्दन को हमारे रिपोर्टर के लेवल पर लाते हुए बताया कि “हाँ, ये खबर सच है कि हम लोग बीजेपी में जाने की तैयारी कर रहे हैं। लेकिन पता नहीं क्यों अमित शाह ने हमें अब तक ग्रीन सिग्नल नहीं दिया है? ऐरे-गैरे लोग तो दो घंटे में बीजेपी में शामिल हो जाते हैं और ये अमितवा हमारे लिए भाव खा रहा है।” -शोभारानी ने अपना मुंह पिचकाते हुए कहा।

“लेकिन एक ऊँट का भाजपा में क्या काम?” ऐसा पूछे जाने पर शोभारानी गुस्से में बोली- “एक नंबर के गधे हो तुम! तुम्हें इतना भी नहीं पता कि हम ऊँट-ऊँटनी ही चुनाव में हार-जीत का फैसला करते  हैं। हम जिस करवट बैठ जाते हैं, उस पार्टी का जीतना तय हो जाता है। क्या तूने कभी सुना नहीं है कि ‘ऊँट किस करवट बैठेगा’? बात करता है!”

“भाजपा में जाकर आप क्या करेंगी?” इस पर शोभारानी इमोशनल होते हुए बोलीं कि- “सबसे पहले तो गौमाता से मिलने जाऊँगी, बहुत दिन हो गए उनसे मुलाकात नहीं हुई है। सुना है वो बीजेपी के घर में बड़े मज़े कर रही है।”

वहीं, ‘गिर’ के एक शेर ने भी अमित शाह को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि- “तीन दिन हो गए अर्जी डाले हुए लेकिन अमित शाह की ओर से कोई जवाब ही नहीं आया है। हमसे तो 91 साल का वो तिवारी भी आगे हो गया। एक गुजराती होकर गुजरात के शेरों की ही फिरकी ले रहा है शाह!” -शेर जी ने दहाड़ा।

उधर, असम के गैंडामल जी, जो हमेशा की तरह पास के तालाब में पानी पीने चले गए थे, से हमारी बात नहीं हो पायी। लेकिन सूत्रों से पता चला है कि वो भी भाजपा में शामिल होने के लिए बेसब्र हैं। अब गेंद अमित शाह के पाले में है। पता चला है कि फिलहाल वो कांग्रेस, सपा और बसपा वगैरह के नेताओं को गुलदस्ते देने में व्यस्त हैं, जैसे ही उन्हें फुरसत मिलेगी वो इन जानवरों को भी पार्टी में शामिल करा लेंगे।



ऐसी अन्य ख़बरें