Wednesday, 23rd August, 2017

चलते चलते

अरविन्द केजरीवाल नहीं रखेंगे रोज़े, कहा बिना समय खाने पड़ते हैं जूते

03, Jun 2017 By Guest Patrakar

नई दिल्ली. मुख्यमंत्री केजरीवाल एक बार फिर बड़ी परेशानी में पड़ गए हैं, EVM मशीन की हैकिंग पर प्रेस कांफ्रेंस को सम्भोधित करते समय जब उन्हें मिथुन नाम एक पत्रकार ने रमदान की याद दिलाई, तो केजरीवाल जी को रमदान की मुबारकबाद देनी पड़ी। उसी के बाद एक दूसरे पत्रकार, हार्दिक ने उनसे रोज़े रखने पर सवाल किया, जिस के जवाब देने पर विवाद खड़ा हो गया। अरविन्द केजरीवाल ने कहा “मैं विशेष समुदाय के प्रति सहानुभूति रखता हूँ, मगर मैं रोज़े नहीं रखता, क्योंकि मुझे कभी भी जूते खाने पड़ जाते हैं।

दुख मनाते केजरीवाल जी
दुख मनाते केजरीवाल जी

ग्यात हो कि पिछले साल दिल्ली में ऑड-इवन पर प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर एक कार्यकर्ता, संदीप ने केजरीवाल पर जूता और सीडी फेंकी थी।  कार्यकर्त्ता की माने तो वो जूता केजरीवाल जी पर नहीं बल्कि उनके पीछे लगी मोदी की तस्वीर पर फेंक रहा था, मगर केजरीवाल जी 2014 लोक सभा चुनाव की तरह एक बार फिर गलत खड़े हो गए। केजरीवाल जी ने दावा किया था कि मोदी जी जूते की मदरबोर्ड हैक कर उसका रास्ता बदल देते हैं।

आम आदमी पार्टी से निकाले गए मंत्री, कपिल मिश्रा ने इसको अरविन्द केजरीवाल की नयी नौटंकी बताई है, कपिल का कहना है की अरविन्द केजरीवाल अपने ही आदमियों को पैसे देकर अपने ऊपर जूता फिंकवाते हैं। कपिल ने आगे कहा कि एक बार तो पैसे न होने पर केजरीवाल ने खुद अपने ही जूते दे दिए थे, जिसके बाद उन्हें मोज़ों के ऊपर सैंडल पहनना पड़ा।

कपिल मिश्रा ने अरविन्द केजरीवाल को कमज़ोर बताया और कहा कि केजरीवाल में रोज़े रखने कि हिम्मत नहीं है, वो दिन भर भूखे नहीं रह सकते। इतना कह कर कपिल मिश्रा बेहोश हो गए और उन्हें तत्काल मोहल्ला क्लिनीक ले जाया गया।

दिल्ली के स्वास्थ मंत्री सत्येंदर जैन ने कहा है कि कपिल मिश्रा बेहोश होने का नाटक करते हैं, उन्हें मोहल्ला क्लिनिक में मिल रही सुविधाएं पसंद हैं और वो इसीलिए बार-बार बीमार होने का नाटक करते हैं।

क्या अरविन्द केजरीवाल ने ऐसा बयान देकर समुदाय विशेष का वोट खो दिया है ये तो आने वाला वक़्त ही बताएगा फिलहाल आप पढ़ते रहिये फेकिंग न्यूज़।



ऐसी अन्य ख़बरें