Monday, 18th December, 2017

चलते चलते

गिरफ़्तार होने पर नेता ने नहीं की 'सीने में दर्द' की शिकायत, पुलिस ने बेकसूर समझकर छोड़ा

11, May 2016 By बगुला भगत

लखनऊ. चमत्कारों की धरती उत्तर प्रदेश में कल एक और चमत्कार हो गया। प्रदेश की राजधानी में कल एक नेता को आय से अधिक संपत्ति के आरोप में गिरफ़्तार किया गया लेकिन पकड़े जाने के बावजूद उसने ‘सीने में दर्द’ उठने की शिकायत नहीं की और चुपचाप पुलिस की गाड़ी में बैठकर चल दिया।

Akhilesh4
“पता कओ, हंवायी पायटी का तौ नयी यै ऊ नेता”

यह देखकर पुलिस हैरान रह गयी और जीप से वापस उतारकर उससे दोबारा पूछताछ शुरु की। लेकिन फिर भी दर्द नहीं उठा तो उसे बेकसूर मानकर छोड़ दिया।

एसएसपी भोलानाथ यादव ने इस अजीबोग़रीब घटना की जानकारी देते हुए बताया कि “हमेशा की तरह हमने एडवांस में एंबुलेंस बुलाकर खड़ी कर ली थी कि दर्द तो उठेगा ही उठेगा। हॉस्पिटल के एसी रूम में बेड भी बुक करा दिया था। लेकिन हमारी सारी तैयारियां धरी की धरी रह गयीं।”

“वैसे, शक तो हमें पहले ही हो गया था कि वो नेता नहीं है। क्योंकि उसके हाथों मे आठ की जगह सिर्फ़ एक अंगूठी थी और गले में मोटी चेन भी नहीं थी। पैरों में रीबॉक के सफ़ेद जूतों की जगह नॉर्मल सी सैंडल थीं। आईफ़ोन की जगह माइक्रोमैक्स का मोबाइल था और वो बात-बात पे हमें धमकी भी नहीं दे रहा था।”

इस बीच, सभी पार्टियों ने उस नेता से पल्ला झाड़ लिया है और इस घटना की एक स्वर में निंदा की है। समाजवादी पार्टी के नरेश अग्रवाल इस पर अपनी प्रतिक्रिया दे ही रहे थे कि अचानक उन्होंने सीने पर हाथ रखते हुए कहा- “ओहो, मुझे तो ये ख़बर सुनकर ही दर्द होने लगा है।” यह कहते-कहते वो हांफने लगे। उनके चेलों सहयोगियों ने तुरंत एंबुलेस बुलाई और उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया।



ऐसी अन्य ख़बरें