Friday, 24th February, 2017
चलते चलते

सेना में 'गोली-घोटाला', आरोपी अफ़सर ने कहा- "गोलियां चलाते समय हमने उनकी गिनती नहीं की"

27, Jun 2016 By बगुला भगत

जम्मू/नयी दिल्ली. सेना के लिये हथियारों की ख़रीद-फ़रोख़्त में एक और बड़ा घोटाला सामने आया है। जम्मू-कश्मीर में पाकिस्तान बॉर्डर पर तैनात सेना की एक बटालियन पर आरोप लगा है कि उसने गोलियों चलायीं कम और बतायीं ज़्यादा।

Rajnath1
पाकिस्तान की ओर गोलियां दाग़ते राजनाथ सिंह

रक्षा सूत्रों के हवाले से पता चला है कि पिछले महीने फ्रांस से जितनी गोलियों का बिल पास कराया गया, खरीदारी उनके आधे की भी नहीं हुई। काग़ज़ों पर 80 लाख गोलियां फ़ायर की हुई दिखा दीं, जबकि चली उनमें से 10% भी नहीं!

जिस अधिकारी ने खरीद का ऑर्डर दिया था, जब उनसे पूछा गया कि “इतनी गोलियां कहां गयीं?”, तो उन्होंने जवाब दिया- “सब चला दीं।”

“लेकिन कोई हिसाब तो होगा। कितनी खरीदी गयीं, कितनी चलायी गयीं, कहां चलायी गयीं?”, इस पर अधिकारी ने कहा कि “हम यहां गोलियां गिनने नहीं बैठे हैं।” गृहमंत्री जी ने ख़ुद कहा है कि गोलियां चलाते समय उनकी गिनती मत करो। बस चला दो!”

“तो हम तो पाकिस्तान की ओर से फ़ायरिंग होते ही गोलियों की बौछार कर देते हैं। ऐसे!” -कहते हुए अधिकारी ने पाकिस्तान की ओर मुंह करके एक और गोली दाग़ दी।

उधर, इस #GoliGate के बाद गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने अब सेना में गोलियों की गिनती अनिवार्य कर दी है। उन्होंने कहा कि “जो भी जवान गोली चलायेगा, वो अपनी एक-एक गोली का हिसाब रखेगा।” फिर उन्होंने कैमरे की तरफ़ ‘ढिचकाऊं’ करते हुए कहा- “गोली चलाओ, मगर ध्यान से!”



ऐसी अन्य ख़बरें