Thursday, 27th April, 2017
चलते चलते

"सौगंध खाता हूं, केजरीवाल को पार्टी में नहीं लूंगा" -अमित शाह ने कार्यकर्ताओं को भरोसा दिलाया

28, Mar 2017 By बगुला भगत

नयी दिल्ली. बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने बीजेपी कार्यकर्ताओं को भरोसा दिलाया है कि “चाहे किसी को भी ले लूं लेकिन केजरीवाल को अपनी पार्टी में नहीं लूंगा!” लेकिन उनके इस प्रॉमिस के बाद भी कार्यकर्ताओं को उनका यक़ीन नहीं हो रहा। उन्हें लग रहा है कि शाह का कोई भरोसा नहीं! क्या पता कल वो केजरीवाल को भी शामिल कर लें! इसी डर की वजह से देश भर से बीजेपी कार्यकर्ता पार्टी मुख्यालय पर जमा हो रहे हैं और शाह से लिखित आश्वासन की मांग कर रहे हैं।

Amit Shah 9
“केजरीवाल को एक से लाख तक नहीं लूंगा, प्रॉमिस करता हूं!”

शाह जी ने कल जब आम आदमी पार्टी के वेद प्रकाश को भी पार्टी में ले लिया, तभी से बीजेपी कार्यकर्ता मुंह फाड़े आसमान की ओर देख रहे हैं। उन्हें अपने विरोधियों को जवाब देना मुश्किल हो रहा है। कार्यकर्ताओं को लग रहा है कि अगर उन्होंने कल को केजरीवाल या राहुल गांधी को भी पार्टी में शामिल कर लिया तो हम तो कहीं मुंह दिखाने लायक नहीं रहेंगे!

छत्तीसगढ़ से दिल्ली पहुंचे ऐसे ही एक असंतुष्ट कार्यकर्ता ने कहा कि “ये तो किसी पार्टी के नेता को छोड़ ही नहीं रहे! ‘सबको साथ’ मिलाकर उन ‘सबका विकास’ करते जा रहे हैं, इसीलिये कह रहे थे- ‘सबका साथ सबका विकास! अब समझ में आया।” इसी बीच कार्यकर्ताओं में असंतोष बढ़ने लगा और वे ‘हाय हाय’ के नारे लगाने लगे।

हल्ला बढ़ता देख शाह को बाहर आना पड़ा और कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए बोले- “दो लोगों के बारे में मैं आपको भरोसा दिलाता हूं- एक केजरीवाल और दूसरे राहुल गांधी! मैं मर जाऊंगा लेकिन इन दोनों को पार्टी में कभी शामिल नहीं करुंगा।” इसके बाद उन्होंने मेज पर रखे गिलास को उठाया और पानी हाथ में लेते हुए कहा- “ये देखो! मेरे हाथ में जल है, मैं इसकी सौगंध खाकर कहता हूं कि केजरीवाल को पार्टी में नहीं लूंगा। अब इससे बड़ी तो कोई बात नहीं होती।”

लेकिन कार्यकर्ता इसके बाद भी शांत नहीं हुए और नारेबाज़ी करते रहे। अंतिम समाचार लिखे जाने तक वे लिखित आश्वासन की मांग पर अड़े हुए थे। प्रधानमंत्री मोदी जी भी थोड़ी देर में वहां पहुंचने वाले हैं।



ऐसी अन्य ख़बरें