Tuesday, 28th March, 2017
चलते चलते

"मैं सिर्फ़ खाते चेक करुंगा, किसी को 50% इन्कम को सफ़ेद करने का ऑफ़र नहीं दूंगा"- अमित शाह

30, Nov 2016 By बगुला भगत

नयी दिल्ली. बीजेपी मैनेजर अध्यक्ष अमित शाह ने उन ख़बरों का खंडन किया है, जिनमें कहा गया था कि वो अपने सांसदों और विधायकों के खाते में आय से अधिक संपत्ति मिलने पर उन्हें ‘फ़िफ़्टी-फ़िफ़्टी’ का ऑफ़र दे रहे हैं। उनका कहना है कि “हमने किसी भी सांसद को 50% रकम पेनल्टी के रूप में पार्टी फंड में जमा करने और बाक़ी 50% अपने पास रखने का ऑफ़र नहीं दिया है।”

Amit Shah 6
“पता नहीं कौन ये अफ़वाह फैला रहा है”

ग़ौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीजेपी के सभी सांसदों और विधायकों को आदेश दिया है कि वे 8 नवंबर से लेकर अब तक अपने बैंक खातों में हुए लेन-देन की डिटेल पार्टी अध्यक्ष अमित शाह को दिखायें। इसी को लेकर तरह-तरह की अफ़वाहें चल रही हैं। यह भी सुनने में आ रहा है कि खाते चेक करने में शाह जी की विशेषज्ञता को देखते हुए उन्हें अब बैंक मैनेजर की तरह ‘बीजेपी मैनेजर’ कहा जायेगा, बीजेपी अध्यक्ष नहीं!

इस बारे में पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए शाह जी ने कहा कि “मैं सिर्फ़ यह चेक कर रहा हूं कि हमारे सांसदों और विधायकों ने 8 नवंबर के बाद अपने खातों में कितनी रकम जमा कराई है और कितनी निकाली है। अगर किसी के खाते में बहुत ज़्यादा रकम मिली तो उसके बारे में प्रधानमंत्री जी ख़ुद फ़ैसला करेंगे कि उस पैसे का क्या किया जाये।”

“और ये 50-50 वाला ऑफ़र प्रधानमंत्री जी ने सिर्फ़ ब्लैक मनी वालों को दिया है। हमने अपने सांसदों और विधायकों को अभी तक ऐसा कोई ऑफ़र नहीं दिया।” -यह कहकर शाह जी प्रेस कॉन्फ्रेंस से उठकर चले गये।

इससे पहले ख़बरें आ रही थीं कि अगर किसी के खाते में अघोषित आय मिली तो उसमें से आधी रकम को पार्टी फ़ंड में रख लेंगे और बाक़ी बची आधी रकम उन्हें वापस लौटा देंगे।

उधर, बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा है कि “बीजेपी मेरी नकल कर रही है। इस देश में सांसदों और विधायकों के खाते चेक करने की परंपरा सबसे पहले मैंने शुरु की थी लेकिन किसी से एक धेला भी नहीं लिया था।”



ऐसी अन्य ख़बरें